कुपोषण

सरकार ने कुपोषण दूर करने की दिशा में किया ऐतिहासिक कार्य:अभिषेक

छत्तीसगढ़ सरकार ने सार्वजनिक वितरण प्रणाली के माध्यम से कुपोषण दूर करने और सामाजिक बदलाव का बड़ा कार्य किया है ।यह बात सांसद अभिषेक सिंह ने मुंबई वर्कशॉप में कही। आईआईटी मुंबई में सपोर्ट टू इम्प्रूविंग न्यूट्रीशन लेवल इन छत्तीसगढ़ के विषय पर आयोजित वर्कशॉप को सम्बोधिन कर रहे थे । इसमें आईआईटी मुंबई के निदेशक, आइडिया सीएसआर प्रमुख, प्राध्यापकों और आईआईटी मुंबई के छात्रों के अलावा भी तमाम लोग मौजूद थे ।
00 पीडियस के चावल के बारे में भी बताया :

प्रदेश में कुपोषण की दर 40.05 प्रतिशत से घटकर 30.13 प्रतिशत

कुपोषण के खिलाफ लड़ाई में छत्तीसगढ़ ने सिर्फ पांच वर्ष के भीतर कामयाबी का शानदार परचम लहराया है। इस लड़ाई में राज्य को लगातार उत्साहवर्धक सफलता मिल रही है। लगभग 50 हजार आंगनबाड़ी केन्द्रों में पौष्टिक आहार और टीकाकरण जैसी सेवाओं और विगत पांच वर्षों से हर साल मनाए जा रहे वजन त्यौहार के फलस्वरूप राज्य में शून्य से पांच वर्ष तक आयु समूह के बच्चों में कुपोषण की दर लगभग 10 प्रतिशत की कमी आई है। आंगनबाड़ी केन्द्रों में वजन त्यौहार वर्ष 2012 से मनाया जा रहा है। वर्ष 2012 में ही राज्य में नौ जिलों का गठन किया गया था, जिन्हें मिलाकर अब छत्तीसगढ़ में 27 जिले हैं। इस अवधि में प्रदेश के सभी 27 जिलों के औस

बच्चों का कुपोषण रोकने करें सभी उपाय : सचिव

 बच्चों का कुपोषण रोकने करें सभी उपाय : सचिव

महिला और बाल विकास विभाग की सचिव डॉ. एम गीता ने जिले के आंगनबाड़ी केन्द्रों के कुपोषित बच्चों को सुपोषण की श्रेणी में लाने के लिए सभी उपाय करने के निर्देश दिए है। इसके लिए उन्होंने बच्चों को आंगनबाड़ी केन्द्रों में समुचित मात्रा में पौष्टिक भोजन, फल और दूध इत्यादि प्रदान कराने की व्यवस्था कराने को कहा। सचिव डॉ.