खतरे में है नौनिहालों की जिंदगी

जर्जर स्कूल में पढ़ाई के लिए मजबूर, खतरे में है नौनिहालों की जिंदगी

wp-1505543526211..jpeg

जिलें के कई सरकारी स्कूलों के भवन खस्ताहाल हैं। इनमें सुविधाओं का अभाव है। दीवारों में दरारें और सीलन वाली छतों के बीच बच्चे बैठकर पढ़ाई करते हैं। गेड़गांव, सुरेवाही, ऐसेबेड़ा, बाड़ाटोला और कन्हारगांव जैसे इलाकों के कई ऐसे प्रायमरी और मिडिल स्कूल हैं जहां की छतों से पानी टपक रहा हैं। खस्ताहाल भवन में बच्चे डर कर पढ़ाई करते हैं कि कहीं कोई हादसा न हो जाए। शिक्षा विभाग को इस बात की कोई चिंता नहीं है। जिससे नौनीहालों की मजबूरी है कि वो ऐसी छत के नीचे पढ़ाई करने को मजबूर हैं।