Kanker

CG-19, Kanker

जब लालच बनी इस भालू के लिए बला, जानिए फिर क्या हुआ

जब लालच बनी इस भालू के लिए बला, जानिए फिर क्या हुआ

कहते हैं लालच बुरी बला, ऐसे ही शहद के लालच में एक भालू पेड़ पर चढ़ गया लेकिन शहद तो मिला नहीं अलबत्ता बेचारा मुसीबत में फंस गया. दरअसल कांकेर के नजदीक भिरावाही गांव में नारियल के पेड़ पर मधुमक्खी के छत्ते की सुगंध पाकर मंगलवार सुबह भालू एक पेड़ में चढ़ गया.

भिरावाही बस्ती में नीम पेड़ पर अलसुबह ग्रामीणों ने भालू देखा। पास के नारियल पेड़ पर मधुमक्खी का छत्ता हैं जिससे वह शहद निकाल कर पीना चाहता था. इसके पहले उजाला हो गया और डर कर भालू नीम के पेड़ पर चढ़ गया. बताया जा रहा है कि भालू पड़े से नीचे उतरने की कोशिश करने लगा लेकिन वहां जमा भीड़ के हो हल्ला करने के बाद वह वापस पेड़ में चढ़ गया.

शराब की अवैध बिक्री करने वालों की खैर नहीं, गुलाबी गैंग सिखाएगी सबक

शराब की अवैध बिक्री करने वालों की खैर नहीं, गुलाबी गैंग सिखाएगी सबक

अवैध शराब बेचने वाले और शराब पीकर हुडंदंग करने वालों की अब खैर नहीं. शहर से लगे गोविंदपुर गांव में शराबियों के हुडदंग से तंग आकर गुलाबी गैंग की महिलाएं लामबंद हो गई हैं. दरअसल गोविंदपुर गांव में शराबियों के उत्पात और महिलाओं के साथ दुर्व्यवहार की घटनाएं बढ़ती जा रही थीं. ऐसे में गुलाबी गैंग ने खुद शराबियों के सबक सिखाने का बीड़ा उठा लिया है.

कांकेर में महिला सहित 4 नक्सली गिरफ्तार

छत्तीसगढ़ के कांकेर जिले में सीमा सुरक्षा बल के जवानों ने गुरूवार को एक महिला नक्सली सहित चार नक्सलियों को गिरफ्तार किया। कांकेर पुलिस अधीक्षक के.एल. ध्रुव ने कहा कि, सीमा सुरक्षा बल के 125वीं और 35वीं बटालियन ने ये कार्रवाई की है। कोयलीबेड़ा थाना इलाके से जवानों ने चारों नक्सलियों को गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार नक्सलियों के पास से दो भरमार बंदूक और दो किलो का टिफिन बम भी बरामद हुआ है। इसके अलावा कुछ बैनर और नक्सली साहित्य भी बरामद हुए हैं। सुरक्षा बलों को लंबे समय से इस इलाके में नक्सलियों की संदिग्ध गतिविधियों की सूचना मिल रही थी। मुखबिर की सूचना के आधार घेराबंदी की गई।

कांकेर ने सीताफल की आइक्रीम और शिक्षा से बनाई अलग पहचान : रमन

सीताफल की आइस्क्रीम और शिक्षा के क्षेत्र में छत्तीसगढ़ के कांकेर जिले ने अपनी अलग पहचान बनाई है। कांकेर के महिला स्वसहायता समूह की ओर से बनाई जाने वाली आइस्क्रीम को राजधानी सहित पूरे प्रदेश में पसंद किया जाता है। बहनों के इस काम के कारण कांकेर सीताफल जिला भी कहलाता। वहीं शिक्षा में कांकेर का प्रदर्शन अच्छा है। ये बातें मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कही। वे बुधवार को मुख्यमंत्री यहां 22 से 30 सितंबर तक चलने वाले गढिय़ा महोत्सव में शामिल हुए।

अंतागढ़ में नक्सलियों ने पेड़ काटकर रास्ता बंद किया

Naxali New

कांकेर जिले के अंतागढ़ क्षेत्र में नक्सलियों ने पेड़ काट कर मार्ग बाधित किया है। टेमरुपानी गांव के मुख्य मार्ग में नक्सलियों ने पेड़ काटा है। सूचना पर बीएसएफ और पुलिस ने मौके पर पहुंच कर रास्ता बहाल किया है। अन्तागढ़ टीआई ने की घटना की पुष्टि की है।

जर्जर स्कूल में पढ़ाई के लिए मजबूर, खतरे में है नौनिहालों की जिंदगी

wp-1505543526211..jpeg

जिलें के कई सरकारी स्कूलों के भवन खस्ताहाल हैं। इनमें सुविधाओं का अभाव है। दीवारों में दरारें और सीलन वाली छतों के बीच बच्चे बैठकर पढ़ाई करते हैं। गेड़गांव, सुरेवाही, ऐसेबेड़ा, बाड़ाटोला और कन्हारगांव जैसे इलाकों के कई ऐसे प्रायमरी और मिडिल स्कूल हैं जहां की छतों से पानी टपक रहा हैं। खस्ताहाल भवन में बच्चे डर कर पढ़ाई करते हैं कि कहीं कोई हादसा न हो जाए। शिक्षा विभाग को इस बात की कोई चिंता नहीं है। जिससे नौनीहालों की मजबूरी है कि वो ऐसी छत के नीचे पढ़ाई करने को मजबूर हैं।

बालिका बाल गृह से भागी 2 छात्राएं , सुरक्षा व्यवस्था पर उठे सवाल

wp-1503745918380.-990x557.jpeg

शहर से महज 3 किलोमीटर की दूरी पर स्थित बालिका बाल गृह से 2 नाबालिग छात्राये आज सुबह भाग निकली.. घटना की सूचना मिलते ही पुलिस टीम भी मौके पर पहुची और तलाशी अभियान शुरू किया,लेकिन समाचार लिखे जाने तक दोनों बालिकाओ का कोई सुराग पुलिस के हाथ नहीं लगा है…
बालिका बाल गृह के स्टाफ के अनुसार दोनों छात्राएं आश्रम के पीछे की दीवार फांद कर सुबह करीब साढ़े 8 बजे भाग निकलीं,जिन्हें कुछ लोगो ने देखा था और इसके बाद इसकी सूचना पुलिस को दी गई ..बालिका बाल गृह से बालिकाओं के भागने का यह कोई पहला मामला नहीं है, इसके पहले भी 5 से 6 छात्राएं भाग चुकी हैं..

शिक्षक की शर्मनाक हरकत,छात्राओं से कराता था मसाज

wp-image-63243702-990x743.jpg

मास्टर साहब ने स्कूल को बना दिया था मसाज पार्लर. सुनने में आपको अजीब लग रहा होगा,लेकिन ये बिल्कुल सच है. कांकेर जिले के कोयलीबेडा विकासखंड के ग्राम पी.व्ही 12 (सुभाष नगर) के शासकीय प्राथमिक शाला का ये मामला है. जहाँ स्कूल के हैड मास्टर सुपद दास की हरकतें सुनकर आप आश्चर्यचकित हो जायेंगे.
आरोप है कि ये महाशय स्कूल में पढ़ने वाले बच्चों से अपना पका हुआ बाल उखाड़ने का कहते थे. साथ ही अपना बाल खिंचवाते थे,सिर की मालिश कराते थे. इतना ही नहीं ये छात्र-छात्राओं से हाथ-पैर दबाने को कहते थे और अश्लील हरकत करने का भी आरोप इन पर लगा है.

महिला पुरुषों से कम नहीं : कमांडेंट निहारिका

niharika.jpg

महिलाएं पुरुषों से किसी भी क्षेत्र में कम नहीं, गरियाबंद की बेटी प्रियदर्शिनी निहारिका सिन्हा ने इसे प्रमाणित किया है। सशस्त्र सीमा बल (एसएसबी) में कमांडेंट निहारिका छत्तीसगढ़ की पहली महिला अफसर हैं, जो रावघाट रेललाइन मार्ग की सुरक्षा के लिए अंतागढ़ व रावघाट में तैनात हैं, जहां हर समय नक्सली हमले का खतरा बना रहता है। सैकड़ों पुरुष जवानों के बीच अकेली महिला अफसर हैं, जो उनका नेतृत्व भी कर रही हैं।
00 कौन हैं कमांडेंट निहारिका :

100 मजदूरों का 44 हजार भुगतान लंबित

विकासखंड दुर्गूकोंदल अंतर्गत ग्राम सिहारी से कोदापाखा और बोकराटोला मार्ग पर सड़क निर्माण गिट्टीकरण, पुलिया निर्माण और डामरीकरण कार्य में लगे मजदूरों को मजदूरी भुगतान नहीं किया जा रहा है। ग्रामीण मजदूर गोविंदराम कोमरा, गिरधारीलाल, अनुज, मेहरसिंह ने बताया सिहारी से कोदापाखा मार्ग पर मजदूरों द्वारा सड़क, पुलिया निर्माण कार्य ठेकेदार 150 रुपए की दर से करवाया गया। लगभग 100 मजदूरों का 44 हजार रुपए का मजदूरी भुगतान लंबित है। मजदूरी नहीं मिलने से ग्रामीण परेशान हैं। ग्रामीणों ने शीघ्र मजदूरी भुगतान दिलाने की मांग की है।