Brijmohan Agrawal

कृषि मंत्री ने जैव प्रौद्योगिकी प्रौन्नत सोसायटी के कार्यालय भवन का लोकार्पण किया

कृषि मंत्री ने जैव प्रौद्योगिकी प्रौन्नत सोसायटी के कार्यालय भवन का लोकार्पण किया

गुरूवार को कृषि महाविद्यालय परिसर में छत्तीसगढ़ जैव प्रौद्योगिकी प्रौन्नत सोसायटी के नवीन कार्यालय भवन का लोकार्पण हुआ। लोकार्पण कृषि मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने किया। राज्य शासन की ओर से इस सोसायटी का गठन जैव प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में नए उद्योगों की स्थापना, मानव संसाधन विकास और रोजगार सृजन के लिए किया गया है। लोकार्पण समारोह में संसदीय सचिव तोखन लाल साहू, छत्तीसगढ़ पाठ्यपुस्तक निगम के अध्यक्ष देवजी भाई पटेल और इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. एस.के. पाटील उपस्थित थे। कृषि मंत्री अग्रवाल ने छत्तीसगढ़ जैव प्रौद्योगिकी प्रोन्नत सोसायटी के प्रतीक चिन्ह का अनावरण भी किया।

अच्छी सेहत के लिये खेल जरूरी : बृजमोहन

 अच्छी सेहत के लिये खेल जरूरी : बृजमोहन

स्वामी विवेकानंद कहते थे कि स्वस्थ शरीर मे ही स्वस्थ मस्तिष्क रहता है। ऐसे में शरीर को स्वस्थ रखने के लिए खेल खेलना आवश्यक है। ये बातें कृषि मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने कही। वे रविवार को रायपुर सिटी स्पोट्र्स क्लब की ओर से स्व गजानंद दुबे स्मृति अंतर शालेय और अंतर महाविद्यालय व्हालीवाल प्रतियोगिता के समापन समारोह में शामिल हुए।

सेवा का भाव रखें, तभी जीवन की सार्थकता: बृजमोहन

 सेवा का भाव रखें, तभी जीवन की सार्थकता: बृजमोहन

समाज की सेवा का भाव सभी में होना चाहिए तभी जीवन की सार्थकता है। गुरुवार को ये बातें कृषि, सिंचाई मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने श्रमिक बस्ती मठपुरैना शिविर में कही। उन्होंने कहा कि कैंसर जैसी गंभीर बीमारी का नि:शुल्क परीक्षण शिविर श्रमिक बस्ती मठपुरैना में लगाया जाना निश्चित ही मारवाड़ी युवा मंच और अखिल भारतीय युवा अग्रवाल सम्मेलन की संवेदनशीलता को दर्शाता है। अपने लिए तो हर कोई जीता है। थोड़ा सा समाज के कमजोर वर्ग की बेहतरी के लिए जी लें तो इससे बड़ा पुण्य कोई दूसरा नहीं है।
00 जब कृषि मंत्री ने कराई अपने स्वस्थ्य की जांच :

पारंपरिक खेलों के जरिए गौरवशाली इतिहास की ओर लौट जाना श्रेष्ठ है : बजमोहन

पारंपरिक खेलों के जरिए गौरवशाली इतिहास की ओर लौट जाना श्रेष्ठ है : बजमोहन

राजनांदगांव के दिग्विजय स्टेडियम में पारंपरिक खेल महोत्सव का समापन समारोह शुक्रवार को हुआ। विविध पारंपरिक खेलों की प्रतियोगिता भारतीय जनता युवा मोर्चा के तत्वावधान में हुई। समापन समारोह में कृषि मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने विजेता टीमों को पुरस्कार से सम्मानित किया।
खेल महोत्सव में कबड्डी, कुश्ती, खो-खो जैसे पारंपरिक खेलों की प्रतियोगिता हुई। खेल में खिलाडिय़ों ने मैदान पर दमखम के साथ शानदार खेल का प्रदर्शन किया। खेल प्रतियोगिता समापन के दौरान कृषि मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने विजेता टीमों को पुरस्कार से सम्मानित किया।

मां बम्लेश्वरी के दरबार में सपरिवार पहुंचे बृजमोहन

मां बम्लेश्वरी के दरबार में सपरिवार पहुंचे बृजमोहन

धर्मस्व, कृषि मंत्री बृजमोहन अग्रवाल बुधवार को सपरिवार डोंगरगढ़ की पहाडिय़ों पर विराजित मां बम्लेश्वरी के दरबार पहुंचे। पूजा-अर्चना कर अग्रवाल परिवार ने छत्तीसगढ़वासियों के जीवन में सुख, समृद्धि और शांति प्रदान करने की प्रार्थना मां बम्लेश्वरी से की।

बृजमोहन ने की तीन देवियों की पूजा (फोटो कैप्शन)

 बृजमोहन ने की तीन देवियों की पूजा (फोटो कैप्शन)

नवरात्रि के पावन अवसर पर धर्मस्व मंत्री बृजमोहन अग्रवाल सपरिवार रायपुर में स्थापित शीतला मंदिर, महामाया और दंतेश्वरी माता के मंदिर पहुंचे। उन्होंने पूजा-अर्चना कर छत्तीसगढ़ प्रदेश की खुशहाली के लिए प्रार्थना की।

बृजमोहन ने किया पुस्तक का विमोचन

बृजमोहन ने किया पुस्तक का विमोचन

छत्तीसगढ़ प्रदेश के कृषि एवं सिंचाई मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने भिलाई-3 मंगल भवन में सतमयी राजमहंत घनाराम ढिंढे स्मृति दिवस पर कार्यक्रम में उनकी स्मृति पुस्तक का विमोचन किया। इस अवसर पर राज्य सभा संसद भूषणलाल जांगड़े, महापौर चंद्रकांता मांडले, डॉ शोभाराम बंजारे, गुलशन ढिंढे आदि उपस्थित थे।

महागौरी मंदिर में बृजमोहन ने की पूजा (फोटो कैप्शन)

Brijmohan Agrawal

नवरात्र पर्व के पावन अवसर पर गुरुवार को छत्तीसगढ़ प्रदेश के धर्मस्व मंत्री बृजमोहन अग्रवाल अवंति विहार स्थित मां महागौरी मंदिर पहुंचे। उन्होंने मां महागौरी के दर्शन कर पूजा-अर्चना की।

काबिलियत की डिग्री नहीं फिर भी अद्भुत शिल्पकार होते हैं हुनरमंद : बृजमोहन

रायपुर जिला सिविल कांट्रेक्टर वेलफेयर एसोसिएशन की ओर से भगवान विश्वकर्मा जयंती समारोह शहर के गांधी चौक में आयोजित की गई। विश्वकर्मा जयंती समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में कृषि मंत्री बृजमोहन अग्रवाल उपस्थित थे।
समारोह को संबोधित कर अग्रवाल ने कहा कि प्रदेश में हमारे ऐसे हजारों हुनरमंद भाई-बहन है जिनके पास तकनीक की डिग्री या कोई प्रमाणपत्र नहीं है। इसके बावजूद वे अद्भुत शिल्पकार के रूप में जाने जाते हैं। जिनके हाथों कई कलात्मक तथा ऊंची इमारतों का निर्माण होता है।