Education

Education

स्वामी विवेकानंद की 154वीं जयंती पर राज्य स्तरीय निबंध प्रतियोगिता

संस्कृति विभाग द्वारा स्वामी विवेकानंद की 154वीं जयंती के अवसर पर 12 से 14 जनवरी 2017 तक संगोष्ठी सांस्कृतिक कार्यक्रम एवं महाविद्यालयीन छात्र-छात्राओं के लिए राज्य स्तरीय निबंध प्रतियोगिता का आयोजन किया जाएगा। निबंध प्रतियोगिता का शीर्षक स्वामी विवेकानंद और नारी सम्मान होगा। इस प्रतियोगिता में भाग लेने हेतु संस्कृति विभाग द्वारा नियमावली बनाई गई है। जिसके अनुसार निबंध मौलिक एवं अप्रकाशित होना चाहिए। निबंध पेपर के एक तरफ लिखा हो। निबंध साफ-सुथरी हस्तलिखित लेखनी में 500 शब्दों से अधिक का नहीं होना चाहिए। निबंध के अंत में प्रतिभागी का नाम, पूरा पता एवं महाविद्यालय के परिचय पत्र की फोटो प्रति, दू

भारतीय बल कल्याण परिषद्रा के निर्देश पर राष्ट्रीय चित्रकारी प्रतियोगिता १६ का आयोजन

छत्तीगढ़ राज्य बालकल्याण परिषद द्वारा भारतीय बल कल्याण परिषद्रा के निर्देश पर राष्ट्रीय चित्रकारी प्रतियोगिता १६ का आयोजन और १५ के पुरुस्कारो का वितरण जे आर दानी कन्या शाला प्रांगन में छत्तीसगढ़ शासन के क्रेडा निगम के चेयरमेन केबिनेट मंत्री दर्जा प्राप्त मान श्री पुरुन्दर मिश्र जी के करकमलो संपन्न हुआ अध्य्क्चाता जिंदल समूह के प्रमुख जनसंपक अधिकारी श्री सुयश शुक्ल ने एवम,विशेष अतिथि श्री रामशरण टंडन समाज सेवी , प्राचार्य श्री विजय खंडेलवाल थे , सम्पूर्ण प्रितियोगिता का निर्णायक एवम मार्गदर्शन नगर के प्रमुख कलाकार श्री डी डी सोनी ने किया , कार्यकर्म में प्रभारी सयुक्त सचिव इंदिरा जैन, श्री

कड़ी मेहनत एवं लगन से अपने लक्ष्य को प्राप्त करें : केदार कश्यप

Hard and diligently to achieve its goal: Kedar Kashyap

स्कूल शिक्षा और आदिम जाति विकास मंत्री केदार कश्यप ने अम्बिकापुर में संचालित प्रयास आवासीय विद्यालय का निरीक्षण किया तथा उन्होंने बच्चों से कहा कि वे कड़ी मेहनत एवं लगन से अपने लक्ष्य को प्राप्त करें तथा अपने माता-पिता के सपनों को साकार करें।

टीवी और मोबाइल पर अपना कीमती समय बर्बाद न करें विद्यार्थी : डॉ. रमन सिंह

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने छात्र-छात्राओं को पढ़ाई के दौरान टी.व्ही. और मोबाइल फोन पर अपना कीमती समय बर्बाद नहीं करने की नसीहत दी है। मुख्यमंत्री ने कहा कि विद्यार्थियों को अपने उज्ज्वल और बेहतर भविष्य के लिए हमेशा सजग रहना चाहिए। उन्होंने विद्यार्थियों से कहा कि जीवन में कोई शॉर्टकट नहीं है बल्कि कड़ी परिश्रम से ही सफलता अर्जित की जा सकती है। विद्यार्थियों को अपने जीवन का बड़ा लक्ष्य लेकर मेहनत और लगन से पढ़ाई करनी चाहिए।

सरकारी स्कूल मेें बस्ते का बोझ कम करने की पहले शुरू

सरकारी स्कूलों में भी बस्ते का बोझ कम करने की शुरूआत हो गई है। आरंग विकासखंड के प्राथमिक स्कूल बनचरौदा और गिधवा स्कूल में बच्चों को बस्ते के बोझ से मुक्त कर दिया गया है। बच्चे बस्ता स्कूल में ही छोड़कर घर जाते है। वे केवल होमवर्क की कापी ही लेकर जाते है। जिला शिक्षा अधिकारी एएन बंजारा ने आरंग, अभनपुर के कई स्कूलों का निरीक्षण कर उपस्थिति और अध्ययन के बारे में जानकारी ली। निरीक्षण के दौरान दोनों स्कूलों में बच्चे बैग लेस मिले।

अब तक 6790 छात्र-छात्राओं को लेपटॉप वितरित

छत्तीसगढ़ युवा सूचना क्रांति योजना
रायपुर, (वीएनएस)। राज्य सरकार द्वारा छत्तीसगढ़ युवा सूचना क्रांति योजना के तहत शैक्षणिक सत्र 2016-17 में अब तक 6790 छात्र-छात्राओं को लेपटॉप वितरित किए जा चुके हैं, जो अच्छी क्वालिटी के हैं। ये लैपटॉप इंजीनियरिंग, मेडिकल एवं अन्य तकनीकी संस्थाओं के स्नातक एवं स्नातकोत्तर के अंतिम वर्ष में अध्ययनरत विद्यार्थियों को दिए गए हैं।

प्रधानमंत्री छात्रवृत्ति के लिए आवेदन 20 तक

जिला सैनिक कल्याण कार्यालय से प्राप्त जानकारी के अनुसार रायपुर कार्यालय में पंजीकृत सेवानिवृत सैनिकों के प्रतिभाशाली बच्चों के लिए प्रधानमंत्री छात्रवृत्ति योजना के तहत आवेदन मंगाए गए है। इस वर्ष व्यवसायिक पाठ्यक्रम के अंतर्गत एम.सी.आई, टी.ई. यू.जी.सी, जैसी संस्थाओं से मान्यता प्राप्त इंजीनियरिंग, मेडि़कल, डेंटल, वेटनरी, एम.बी.ए. बी.बी.ए. एम.सीए, बी.एड, बी. फार्मा एवं डी.

रविवि ने सर्वे कर जाना कमियों को

ग्रेडिंग के लिए आने वाली टीम से पहले रविवि प्रबंधन ने सर्वे कर जाना कमियों को। इसके बाद सभी विभागाध्यक्षों को कमियों को दूर करने के निर्देश दिए है। नैक की टीम 28 नवंबर को आएगी। रविवि ने इस बार नैक से ए ग्रेड लेने की तैयारी कर रहा है। पांच साल पहले जब नैक की टीम आई थी, तो रविवि में बारी कमियों के कारण उसले बी ग्रेड दिया था, इस ग्रेड में रविवि को 2.62 अंक मिले थे, अब रविवि को ए ग्रेड पाने के लिए अपने इंडेक्स को तीन अंकों से ज्यादा करना होगा। इसके लिए रविवि प्रबंधन पूरी तरह तैयार है। नैक की टीम के आने से पहले अपनी कमियों को आंकने के लिए कुछ टीमें बनाई और इन्हें सभी अध्ययन शालाओं का निरीक्षण नैक ट