Naxali

पुलिस को बड़ी सफलता, 11 नक्सलियों को किया गिरफ्तार

पुलिस को बड़ी सफलता, 11 नक्सलियों को किया गिरफ्तार

पुलिस को बड़ी सफलता हाथ लगी है. छत्तीसगढ़ में कल आईईडी ब्लास्ट में 7 जवानों की शहादत के बाद आज बीजापुर में 11 नक्सलियों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है. कुटरू पुलिस ने 11 नक्सलियों को गिरफ्तार किया है, जिसमें 2 महिलाएं शामिल हैं. इन सबके खिलाफ जिले के अलग-अलग थानों में गंभीर अपराध दर्ज हैं. कुटरू एसडीओ पी प्रशांत शुक्ला के मार्गदर्शन में डीआरजी ने कार्रवाई की है.

बुरकापाल हमले में शामिल प्लाटून मेंबर समेत 3 नक्सली गिरफ्तार, 2 नक्सलियों ने किया सरेंडर

बुरकापाल हमले में शामिल प्लाटून मेंबर समेत 3 नक्सली गिरफ्तार, 2 नक्सलियों ने किया सरेंडर

बुरकापाल हमले में शामिल प्लाटून मेंबर समेत 3 नक्सलियों को आज गिरफ्तार कर लिया गया. इधर 2 नक्सलियों ने एसपी के समक्ष सरेंडर भी किया है. सरेंडर करने वाले दो नक्सलियों में से एक नक्सली के ऊपर 1 लाख रूपये का इनाम भी रखा गया था.

जानकारी के अनुसार बासागुड़ा थाना क्षेत्र अंतर्गत नक्सली कुंजाम आड़ा, हेमला लखमा और अवलम सुक्कू को गिरफ्तार कर लिया गया है. वहीँ नक्सल विचारधारा से क्षुब्ध होकर 2 नक्सलियों ने एसपी के समक्ष आत्मसमर्पण किया है.

मुठभेड़ के बाद बौखलाए नक्सलियों ने सड़क मार्ग बाधित कर फेंके बैनर पर्चे, पुलिस-नक्सली मुठभेड़ को बताया फर्जी…

मुठभेड़ के बाद बौखलाए नक्सलियों ने सड़क मार्ग बाधित कर फेंके बैनर पर्चे

नक्सलियों ने मानपुर के बीच धवलपुर में सड़क पर पेड़ गिरा कर मार्ग बाधित कर दिया है. साथ ही मौके पर बैनर पोस्टर भी फेंके है. एमएन डिवीजन कमेटी ने इस पर्चे को फेंका है, और लाल स्याही से लिखे गए है ये पर्चे.

नक्सली जवानों की सफलता को लेकर बौखलाए हुए है. जिससे अपना तांड़व लोगों के बीच बरसाने की कोशिश कर रहे है. नक्सली 11 मई को हुई पुलिस-नक्सली मुठभेड़ को फर्जी बता रहे हैं. जिसके विरोध में यह पर्चे फेंके है. साथ ही इस पर्चे को लाल स्याही से लिखा गया है. इससे यह कहा जा सकता है कि एमएन डिवीजन कमेटी के नक्सलियों ने यह पर्चा फेंका है.

मुठभेड़ के बाद बरामद हुआ नक्सलियों का खाता

पहले नोटबंदी के समर्थन में भले ही बस्तर में नक्सलियों की कमर टूटने के दावे किए जाते रहे हों लेकिन साल भर बाद एक मुठभेड़ में बरामद नक्सलियों का खाता देखने नोटबंदी के समय 2 लाख रुपए जमा किए जाने का उल्लेख किया गया है।
सभी एरिया कमेटी से लेकर एलओएस तक को नोट बदलवाने की जवाबदारी दी गई थी। समझा जाता है कि बस्तर के विभिन्न हिस्सों में नक्सलियों ने बड़ी मात्रा में अपने पास रखे एक हजार और पांच सौ रुपए के नोट बदलवाए हैं। हालांकि कुछ मामलों में नोटबंदी के लिए पहुंचे नक्सलियों के मददगारों को पुलिस ने पकड़ा भी है, लेकिन इन सबके बावजूद वे अपने नोट बदलवाने में कामयाब हो गए हैं।

पुलिस को बड़ी सफलता, 2 इनामी नक्सली ढेर

पुलिस को बड़ी सफलता, 2 इनामी नक्सली ढेर

आज सुरक्षाबलों को बड़ी कामयाबी हाथ लगी है. दरअसल कन्हाईपाड़ में आज पुलिस-नक्सली मुठभेड़ हुई, जिसमें 2 नक्सली ढेर हो गए.

मारे गए दोनों नक्सलियों पर कुल 18 लाख रुपए का इनाम था. इसमें से प्लाटून कमांडर सीता सोढ़ी पर 10 लाख रुपए और सोढ़ी लखमा जो चिंतागुफा बटालियन मेंबर था, उस पर 8 लाख रुपए का इनाम था. एसपी अभिषेक मीणा ने मुठभेड़ में 2 इनामी नक्सलियों के मारे जाने की पुष्टि की है.

ये भी पढ़ें-

नक्सलियों की बौखलाहट उजागर, कई वाहनों में लगाई आग

नक्सलियों ने दी पत्रकारों और वन मंत्री को जान से मारने की धमकी

नक्सलियों ने दी पत्रकारों और वन मंत्री को जान से मारने की धमकी

जिले के आवापल्ली क्षेत्र के उसूर तहसील के सामने पुलिस ने नक्सली बैनर-पोस्टर बरामद किए हैं। इसमें नक्सलियों ने मुठभेड़ की कवरेज करने वाले पत्रकारों और वन मंत्री महेश गागड़ा को जान से मारने की धमकी दी है। आईजी बस्तर विवेकानंद सिन्हा ने कहा कि ये बैनर-पोस्टर माओवादियों के दक्षिण बस्तर सचिव हिडमा ने जारी करवाए हैं। इसमें कहा गया है कि जिस तरह मुठभेड़ की गलत रिपोर्टिंग करने पर साईं रेडड़ी को तड़पा-तड़पा कर मारा गया, उसी तरह दूसरे पत्रकारों को भी मारा जाएगा। इन पोस्टर्स में उसूर के तहसीलदार और पटवारी को भी जान से मारने की धमकी दी गई है।
00 कब का है ये पर्चा:

मुठभेड़ में दो ईनामी नक्सली ढ़ेर

सुकमा जिले में पुलिस और नक्सलियों में हुई मुठभेड़ में दो नक्सलियों को मार गिराया गया है। आज शुक्रवार दोपहर जिले के दोरनापाल में कोंटा के जंगलों में यह मुठभेड़ हुई है। नक्सलियों की ओर से हुई फायरिंग का पुलिस ने मुंहतोड़ जवाब दिया। इसमें दो नक्सलियों की मौत हो गई। बताया जा रहा है दोनों पर सरकार की ओर से 8-8 लाख रुपए का ईनाम था। पुलिस की टीम मौके पर मौजूद है।

नक्सलियों ने की ग्रामीण की हत्या, फेंका पर्चा

नक्सलियों ने की ग्रामीण की हत्या, फेंका पर्चा

जिले में एक बार फिर नक्सलियों का काला चेहरा सामने आया है, मुखबिरी के शक में नक्सलियों ने एक ग्रामीण की हत्या कर दी. मृतक ग्रामीण का नाम अजीत पोद्दार है, घटना बीति रात की बताई जा रही है. बांदे थाना क्षेत्र के परलकोट विलेज 111 के रहने वाले अजीत के घर दो दर्जन से ज्यादा नक्सलियों ने हमला कर दिया और उन्हें घर से बाहर निकालकर बीच सड़क में गोली मारकर हत्या कर दी.

नक्सलियों ने की युवक की हत्या

कांकेर जिले के इरपानार में नक्सलियों ने युवक की गोली मारकर हत्या कर दी। पुलिस का मुखबिर होने का आरोप लगाकर नक्सलियों ने इस घटना को अंजाम दिया। बांदे थाना पुलिस मामले में कार्रवाई कर रही है।
बांदे थाना प्रभारी अमोल खलखो ने कहा कि, इरपानार में बुधवार देर रात नक्सलियों ने अजीत पोद्दार नामक युवक की गोली मारकर हत्या की है। युवक के सीने में गोली मारी गई है। घटना में कितने नक्सली शमिल थे इसका खुलासा नहीं हो सका है। नक्सली युवक पर पुलिस का मुखबिर होने का आरोप लगा रहे थे। फिलहाल युवक की लाश का पीएम कराया जा रहा है। थाना प्रभारी अमोल खलखो ने कहा कि मामले की जांच की जा रही है।

नक्सली दहशत, गांव है पर रह नहीं सकते, खेत है पर बो नहीं सकते

नक्सली दहशत, गांव है पर रह नहीं सकते, खेत है पर बो नहीं सकते

गांव है, पर रह नहीं पाते, खेत है पर जोताई नहीं कर पाते, रिश्तेदार हैं पर उनके साथ रहकर दु:ख-सुख नहीं बांट पाते। यह हाल है अनिल, चंद्रूराम, रामप्रसाद, बंसीलाल जैसे सैकड़ों किसानों का जो नक्सली दहशत के चलते अपना गांव, घर-द्वार छोड़कर कई साल से दूसरे गांव में बसे हुए हैं। इनका इससे भी एक बड़ा दर्द यह है कि आज जब छत्तीसगढ़ सरकार धान बोनस बांट रही है, ऐसे में खेत होते हुए भी ये बोनस के लाभ से वंचित हैं। कारण, ये अपने खेत में फसल नहीं ले पा रहे हैं। अंतागढ़ विकासखंड के चिंगनार, कोसरोंडा जैसे अति संवेदनशील गांवों के कई किसानों को नक्सली दहशत के चलते अपना गांव और खेत छोडऩा पड़ा। 1997 के दशक में जब नक्