अल्प वर्षा,सूखे की स्थिति से निपटने कार्य योजना तैयार करें

Prem Prakash Pandey,

राजस्व एवं आपदा प्रबंधन मंत्री प्रेमप्रकाश पाण्डेय ने आज कांकेर जिले के चारामा विकासखण्ड मुख्यालय में अधिकारियों की बैठक लेकर अल्पवर्षा के कारण सूखे की स्थिति की आशंका को दृष्टिगत रखते हुए विभिन्न विभागों की ओर से किए जा रहे कार्यों की समीक्षा की। उन्होंने कम वर्षा की स्थिति को देखते हुए शीघ्र ही प्रभावित होने वाले ग्रामों के लिए कार्य योजना तैयार कराने के निर्देश दिए। कम वर्षा से प्रभावित होने वाली फसलों के आंकलन करने के निर्देश भी अधिकारियों को दिए।
उन्होंने राजस्व राजस्व अधिकारियों को निर्देशित किया कि, वे अल्प वर्षा के कारण खरीफ फसलों की स्थिति प्रभावित होने की आशंका है। कम वर्षा का प्रभाव खरीफ फसलों के साथ-साथ सिंचाई जलाशयों में जल भराव, भू-जल संग्रहण तथा पशुचारे की उपलब्धता आदि पर प्रभाव पड़ने की आशंका है। इन स्थिति को देखते हुए प्रभावित किसानों को राहत देने और ग्रामों को प्राथमिकता क्रम में पहला स्थानों पर रखें।
उन्होंने कृषि विभाग के अधिकारियों से कहा कि, वे किसानों को रबी की फसल के लिए उनके मांग के अनुरूप बीज और अन्य जरूरी सामग्री मुहैया कराए। सिंचाई विभाग के अधिकारियों से जलाशयों में जल भराव की जानकारी किसानों को खरीफ फसल के लिए पानी उपलब्ध कराने को कहा।
विद्युत विभाग को समीक्षा के दौरान प्रभावित किसानों को सिंचाई के लिए 24 घंटे विद्युत की आपूर्ति तथा खराब ट्रांस्फार्मरों को बदलने के निर्देश दिए गए। उन्होंने लो वोल्टेज की समस्या वाले क्षेत्रों में वोल्टेज बढ़ाने समुचित कार्यवाई के निर्देश दिए । उन्होंने सिंचित क्षेत्रों में फसल को बचाने हर संभव कार्यवाई के निर्देश दिए।
राजस्व मंत्री ने मजदूरों का पलायन रोकने के लिए अधिक से अधिक रोजगारमूलक कार्य शुरू करने की योजना बनाने को कहा। अल्प वर्षा के कारण सूखे की स्थिति निर्मित होती है तो खेतिहर मजदूरों को रोजगार की आवश्यकता होगी। रोजगार के अभाव में जरूरतमंद मजदूरों को जिले या प्रदेश से बाहर रोजगार की तलाश में न जाना पड़े। इसलिए मनरेगा के अंतर्गत कम वर्षा वाले क्षेत्रों में अधिक से अधिक रोजगारमूलक कार्य संचालित किए जाएं, ताकि जरूरतमंद लोगों को रोजगार उपलब्ध कराया जा सके।
जिला पंचायत को निर्देशित कर कहा गया कि वे प्रभावित ग्रामों में राहत कार्य पर्याप्त संख्या में संचालित करें ताकि पलायन की स्थिति निर्मित न होने पाये। उन्होंने मांग के अनुरूप तत्काल राहत कार्य प्रारंभ करने के निर्देश दिए। उन्होंने मौसमी बिमारी की स्थिति की जानकारी लेते हुए सभी स्वास्थ्य केन्द्रों में पर्याप्त मात्रा में दवाईयों के भंडारण के निर्देश दिए।
बैठक में छत्तीसगढ़ मछुआ कल्याण बोर्ड के अध्यक्ष भरत मटियारा, राजस्व सचिव एन.के. खाखा, कलेक्टर टामन सिंह सोनवानी, पुलिस अधीक्षक एम.एल. कोटवानी सहित लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी, पशुपालन आदि अन्य विभाग के अधिकारी उपस्थित थे।

Source: 
visionnewsservice.in

Related News