आलोचना के डॉक्टर बनने का सपना जल्द होगा पूरा

आलोचना के डॉक्टर बनने का सपना जल्द होगा पूरा

आलोचना की मेहनत, लगन और शासकीय योजना के बूते अपने सपनों को पंख लग गए हैं। आलोचना आदिवासी बाहुल्य जिले रायगढ़ के लैलूंगा विकासखंड के ग्राम टेटकाआमा की निवासी हैं। आलोचना का बचपन से ही सपना था कि वे डॉक्टर बनकर आदिवासी अंचल के लोगों की सेवा करें। गांव में रहकर डॉक्टरी की तैयारी करना असंभव तो नहीं पर मुश्किल जरूर था। लेकिन आलोचना के मजबूत इरादों ने हर बाधा को मात दी। आलोचना को छत्तीसगढ़ सरकार की बाल भविष्य सुरक्षा योजना के तहत संचालित प्रयास योजना के बारे में पता चला तो वे चयन परीक्षा में सम्मिलित हुईं। आलोचना ने परीक्षा में चयनित होने के बाद 11वीं, 12वीं की पढ़ाई और मेडिकल की कोचिंग के लिए प्रयास आवासीय विद्यालय बिलासपुर में प्रवेश लिया। अनुभवी शिक्षकों के मार्गर्शन में आलोचना ने 12वीं की परीक्षा में 65 फीसदी अंक हासिल किए। इसके साथ ही बीएएमएस की प्रवेश परीक्षा में 81वीं रैंक प्राप्त की। आलोचना वर्तमान में शासकीय आयुर्वेदिक मेडिकल कॉलेज बिलासपुर में बीएएमएस की पढ़ाई कर रही हैं। बहुत जल्द आलोचना का डॉक्टर बनने का सपना पूरा हो जाएगा। मुख्यमंत्री बाल भविष्य सुरक्षा योजना से सिर्फ आलोचना ही नहीं बल्कि कई विद्यार्थी अपना भविष्य संवार रहे हैं। निश्चित रूप से ये योजना नक्सल प्रभावित इलाकों के विद्यार्थियों के करियर निर्माण में महत्वपूर्ण योगदान दे रही है।
मुख्यमंत्री बाल भविष्य सुरक्षा योजना के अंतर्गत प्रयास आवासीय विद्यालयों का संचालन साल 2014 से किया जा रहा है। प्रयास आवासीय विद्यालयों का उद्देश्य नक्सल प्रभावित जिलों के पूर्व माध्यमिक और हाईस्कूल उत्तीर्ण विद्यार्थियों के लिए पूर्णतया आवासीय और नि:शुल्क गुणवत्तापरक पोस्ट मैट्रिक स्तर की शिक्षा और इससे संबंधित प्रतियोगी परीक्षाओं में सफल होने के लिए सक्षम बनाने के लिए तैयारी कराना है। प्रयास विद्यालय में कक्षा 11वीं और 12वीं में अध्ययन कराया जाता है साथ ही विद्यालय में बोर्ड परीक्षा के साथ प्रतियोगी परीक्षा की विशेष तैयारी कराई जाती है। इस योजना के अंतर्गत नक्सल प्रभावित जिले सुकमा, बीजापुर, दंतेवाड़ा, बस्तर, नारायणपुर, कोण्डागांव, कांकेर, राजनांदगांव, कोरिया, सरगुजा, बलरामपुर-रामानुजगंज, जशपुर, बालोद, गरियाबंद, धमतरी और महासमुंद जिले शामिल हैं।
बिलासपुर जिले के प्रयास आवासीय विद्यालय में सत्र 2017-18 में 11वीं में 74 बालक और 80 बालिकाएं अध्ययनरत हैं वहीं 12वीं कक्षा में 70 बालक और 49 बालिकाएं अध्ययनरत हैं। प्रयास विद्यालय में 12वीं कक्षा की क्लास और कोचिंग सुबह साढ़े सात बजे से शाम 5 बजे तक और 11वीं कक्षा में सुबह साढ़े सात बजे से दोपहर 12 बजे तक क्लास और दोपहर 3 बजे से शाम 6 बजे तक कोचिंग क्लास लगाई जा रही है।

Source: 
Vision News Service

Related News