ईवीएम, वीवीपीटी की संख्या सार्वजनिक करें आयोग : कांग्रेस

भाजपा और उनके सहयोगी प्रशासन तंत्र का दुरुपयोग कर निरंतर आदर्श आचार संहिता का मखौल उड़ाया रहे हैं। प्रथम और द्वितीय चरण में हुए मतदान के बाद मिल रहे रुझानों से कांग्रेस की सरकार बनना सुनिश्चित है, इससे घबराए भारतीय जनता पार्टी और उनके सहयोगी मतगणना की प्रक्रिया की निष्पक्षता को प्रभावित करने में लगे हुए हैं। प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने लोकतंत्र में पारदर्शिता को बनाए रखने के लिए राज्य निर्वाचन आयोग से निवेदन किया कि आयोग प्रदेश के 90 विधानसभा सीटों के मतदान के लिए कितनी संख्या में किस-किस संख्या की ईवीएम और वीवीपीटी मंगाई गई थी, 90 विधानसभा सीटों में मतदान कार्य में कितनी और किस-किस संख्या की ईवीएम और वीवीपीटी का उपयोग हुआ और मतदान के दौरान कितनी ईवीएम और किस-किस संख्या की मशीन और वीवीपीटी खराब हुई। यह ईवीएम कहाँ पर किस हालात में रखी गई है, इसकी जानकारी सार्वजनिक कर लोकतंत्रहित में पारदर्शिता सुनिश्चित किया जाना चाहिये।
ठाकुर ने कहा कि कांग्रेस को मिल रहे जनादेश से घबराए भाजपा, भाजपा के सहयोगी और भाजपा सरकार से अनुचित फायदा उठाते रहे। चाटुकार अधिकारी मतगणना की पवित्रता और निष्पक्षता को प्रभावित करने में जुटे हुये है। प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा है कि जिस प्रकार से निर्वाचन कार्य में लगे चंद अधिकारी भाजपा के मंडल प्रकोष्ठ के पदाधिकारी की तरह कार्य कर रहे है। इससे स्पष्ट होता है कि राज्य में कुछ प्रशासनिक अधिकारी नहीं चाहते है कि आदर्श आचार संहिता का पूर्ण रूप से पालन हो।
धमतरी, अंबिकापुर, बलौदाबाजार के बाद साजा नवागढ़ दुर्ग रायपुर के स्ट्रांग रूम में भी जनादेश के साथ छेड़छाड़ की नापाक कोशिश की गयी है। प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने मांग की है कि छत्तीसगढ़ राज्य के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी राज्य की जनता को आश्वस्त करें कि निर्वाचन कार्य के लिए मंगाई गई ईवीएम और वीवीपैट अभी भी राज्य निर्वाचन आयोग के नियंत्रण में ही है। कहां-कहां मशीने है, कौन-कौन सी मशीने उपयोग की गई, कौन-कौन सी मशीने उपयोग नहीं की गई, यह पूरा विवरण लोकतंत्र के हित में सभी राजनैतिक दलों के उपलब्ध कराया जाए।

Source: 
visionnewsservice.in

Related News