उद्योगपतियों के सुझाव से बनाई जाएगी नई उद्योग नीति : भूपेश

उद्योगपतियों के सुझाव से बनाई जाएगी नई उद्योग नीति : भूपेश

छत्तीसगढ़ में जेम ई-पोर्टल की जगह छत्तीसगढ़ राज्य औद्योगिक विकास निगम से शासकीय विभागों में सामग्री खरीदी की जाएगी। इसके लिए अगली केबिनेट में प्रस्ताव लाया जाएगा। यह घोषणा मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने शनिवार को बिलासपुर में 19वें राष्ट्रीय उद्योग और व्यापार मेले के उद्घाटन अवसर पर किया।

व्यापार विहार स्थित त्रिवेणी सभागार में पांच दिवसीय भव्य मेले के उद्घाटन समारोह में बघेल ने कहा कि जेम (गवर्मेंट ई-पोर्टल) के माध्यम से भंडार क्रय करने से न केवल राज्य के औद्योगिक और व्यापारिक हितों और रोजगार को नुकसान हो रहा है। इसलिए पूर्ववत सीएसआईडीसी के माध्यम से खरीदी करने का फैसला लिया जाएगा। उन्होंने उद्योगपतियों से कहा कि वे यह सुनिश्चित करें कि वे जो सामग्री प्रदाय करें वे उच्च गुणवत्ता के हों और हम उसका उपयोग करके गर्व करें कि यह हमारे प्रदेश के उद्योगों से निर्मित है।

मुख्यमंत्री बघेल ने कहा कि नई उद्योग नीति 2019 के लिए उद्योगपति अपने सुझाव दें। उनके सुझाव के अनुसार ही नई नीति बनाई जाएगी। उन्होंने कहा कि अन्य राज्यों की उद्योग नीति में जो अच्छी बातें हैं उन्हें प्रदेश की उद्योग नीति में शामिल किया जाएगा।

उन्होंने कहा कि कोयला और लोहा के अतिरिक्त कृषि व सब्जी आधारित और प्रदूषण रहित उद्योगों को प्राथमिकता देंगे। सरकार की मंशा है कि स्थानीय उद्योगों के साथ ही बाहर से आने वाले उद्योगपतियों को भी राज्य की नीति से प्रोत्साहन मिले, जिससे रोजगार के अवसर बढ़ेंगे।

कार्यक्रम में उपस्थित उद्योग मंत्री कवासी लखमा ने कहा कि नौजवानों को रोजगार की जरूरत है। सरकार उन्हें छोटे-छोटे उद्योग स्थापित करने के लिए प्रोत्साहित करेगी और जो भी सुविधाएं और मांग उनकी ओर से आएगी उनको पूरा करने का प्रयास किया जायेगा।

बिलासपुर के विधायक शैलेष पांडेय ने इस अवसर पर कहा कि मेले का आयोजन शहर के लिए गौरव की बात है और इससे छोटे लघु उद्यमियों को लाभ मिलता है।

आयोजकों की ओर से स्वागत भाषण देते हुए छत्तीसगढ़ लघु और सहायक उद्योग संघ के अध्यक्ष हरीश केडिया ने छत्तीसगढ़ के लघु उद्यमियों को किस प्रकार प्रोत्साहित किया जा सकता है, इस पर सुझाव दिए और उद्यमियों की समस्याओं की ओर ध्यान आकृष्ट कराया।

Source: 
visionnewsservice.in

Related News