कलेक्टर ने किया संयुक्त जिला कार्यालय का आकस्मिक निरीक्षण

कलेक्टर ने किया संयुक्त जिला कार्यालय का आकस्मिक निरीक्षण

कलेक्टर ने 11 जनवरी को प्रातः 11ः45 बजे संयुक्त जिला कार्यालय के विभिन्न विभागों और शाखाओं का आकस्मिक निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने कर्तव्य से अनुपस्थित कार्यालय अधीक्षक सहित 17 कर्मचारियों को शो-कॉज नोटिस जारी कर दो दिवस के भीतर समक्ष में उपस्थित होकर जवाब प्रस्तुत किये जाने निर्देशित किया है। कलेक्टर टोपेश्वर वर्मा ने संयुक्त जिला कार्यालय के मुख्य प्रतिलिपिकार शाखा, राजस्व शाखा, सूचना का अधिकार शाखा सहित जिला योजना एवं सांख्यिकी शाखा ईत्यादि का औचक निरीक्षण किया तथा मुख्य प्रतिलिपिकार शाखा में प्राप्त, निराकृत और लम्बित आवेदन पत्रों की जानकारी ली।
इस शाखा में लंबित आवेदन पत्रों का शीघ्र निराकरण करने निर्देशित किया। वहीं सूचना का अधिकार शाखा में 53 लम्बित आवेदन पत्रों को समय-सीमा के भीतर निराकृत किये जाने कहा। इसके साथ ही जमा शुल्क राशि को केशबुक में दर्ज करने और नियत समयावधि में चालान के द्वारा जमा करने का निर्देश दिया। कलेक्टर ने सभी शाखाओ ंके प्रभारी अधिकारियों को एक सप्ताह के भीतर कार्यों में सुधार लाने निर्देशित कर कहा कि नस्तियों के संधारण, पंजियों तथा अन्य दस्तावेजों के रख-रखाव पर ध्यान दिया जाये। उन्होंने पक्षकारों के प्रकरण निराकरण को सर्वोच्च प्राथमिकता देने पर बल देते कहा कि दूरस्थ क्षेत्रों से आने वाले पक्षकारों के आवेदन पत्रों पर संवेदनशीलता के साथ कार्रवाई किया जाये। किसी भी परिस्थिति में निर्धारित समयावधि के बाद आवेदन पत्रों का निराकरण नहीं किया जाये। उन्होंने अन्य विभागीय अधिकारियों को भी कार्यालयीन काम-काज में अद्यतन प्रगति लाने निर्देशित किया।
उक्त शो-कॉज नोटिस में सम्बन्धितों को निर्देशित किया गया है कि कार्यालयीन समयावधि में अनुपस्थित शासकीय कार्य में अरूचि और स्वेच्छाचारिता को प्रदर्शित करता है। उक्त कृत्य छत्तीसगढ़ सिविल सेवा आचरण नियम 1965 के विपरीत है। इस नोटिस की प्राप्ति के दो दिवस के भीतर समक्ष में उपस्थित होकर समाधानकारक जवाब प्रस्तुत किया जाये। अन्यथा सम्बन्धितों के विरूद्ध एक पक्षीय अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाएगी, जिसकी सम्पूर्ण जिम्मेदारी सम्बन्धितों की होगी।

Source: 
visionnewsservice.in

Related News