किसानों के हर सुख-दु:ख में सहभागी है छत्तीसगढ़ सरकार : रमन

 किसानों के हर सुख-दु:ख में सहभागी है छत्तीसगढ़ सरकार : रमन

छत्तीसगढ़ सरकार किसानों के हर सुख-दुख में सहभागी है, उन्हें किसी प्रकार की चिंता करने की जरूरत नहीं है। अभी किसानों को धान का बोनस दिया जा रहा है। ये बातें मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कही। वे गरियाबंद जिले में बोनस तिहार के अवसर पर किसानों को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने जिले के 48 हजार 883 किसानों को 73 करोड़ 49 लाख रुपए का बोनस दिया। मुख्यमंत्री के कम्प्यूटर में एक क्लिक करने के साथ ही किसानों के खातों में बोनस राशि का ट्रांसफर हो गया।
मुख्यमंत्री ने कहा कि, जहां सूखे की स्थिति है, वहां सर्वे करने के निर्देश जारी कर दिए गए हैं। जल्द ही किसानों को राजस्व पुस्तक परिपत्र के प्रावधानों के तहत सहायता दी जाएगी। इसके अलावा प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अंतर्गत बीमित किसानों को बीमा राशि का लाभ दिया जाएगा। मुख्यमंत्री ने बोनस राशि वितरण के साथ ही 229 करोड़ के 49 विकास कार्यों का लोकार्पण और शिलान्यास किया।
उन्होंने कहा कि गरियाबंद अब विकसित जिले का स्वरूप ले रहा है। यहां सभी शासकीय कार्यालय खुल चुके हैं। नए भवनों का निर्माण हो चुका है। अब गरियाबंद के लोगों को रायपुर का चक्कर लगाना नहीं पड़ता। सारे निर्णय अब गरियाबंद में ही लिए जा रहे हैं। किसानों के पसीने की एक-एक बूंद से फसल तैयार होती है। उनकी मेहनत का लाभ देने के लिए सरकार समर्थन मूल्य पर धान खरीदी के साथ ही बोनस का वितरण कर रही है। वर्ष 2016 में बेचे गए धान का बोनस अभी दिया जा रहा है और इस साल जो धान खरीदेंगे उसका बोनस हम अगले साल अप्रैल में वितरित करेंगे।
उन्होंने कहा कि किसानों की भलाई के लिए सर्वाधिक योजनाएं छत्तीसगढ़ में ही संचालित की जा रही है। एक समय था जब किसानों को 15 प्रतिशत ब्याज दर पर कृषि ऋण मिलता था। इसे हमने शून्य प्रतिशत कर दिया है। छत्तीसगढ़ में किसानों को साढ़े सात हजार यूनिट नि:शुल्क बिजली दे रहेे हैं। सौर सुजला योजना के तहत सोलर सिंचाई पम्प की कीमत लगभग साढ़े चार लाख रूपए होती है, लेकिन हम किसानों को केवल 8 हजार से 10 हजार रुपए में दे रहे हैं। अकेले गरियाबंद जिले में एक हजार से ज्यादा किसानों को सोलर सिंचाई पम्प का वितरण किया गया है, जो अपने आप में एक बड़ा कीर्तिमान है।
उन्होंने कहा कि, गरियाबंद जिले के विकास को देखकर संतुष्टि मिलती है। यहां का कलेक्टोरेट भवन रायपुर से भी बेहतर है। आज गरियाबंद जिले में एक हजार से ज्यादा महिलाओं को उज्ज्वला गैस कनेक्शन दिया गया है। अब तक गरियाबंद जिले में सात हजार से ज्यादा घरों में गैस कनेक्शन दिए जा चुके हैं। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत 11 लाख आवासहीन परिवारों को आवास दिया जा रहा है। आज पांच सौ बालिकाओं को सरस्वती साइकिल योजना के तहत नि:शुल्क साइकिल का वितरण किया गया है। इस योजना के माध्यम से छात्राओं की शिक्षा का प्रतिशत बढ़ा है। पहले 50 से 55 प्रतिशत बालिकाएं ही स्कूल जा पाती थी, लेकिन साइकिल की सुविधा हो जाने से बालिकाओं का स्कूल जाने का प्रतिशत 98 हो गया है। यह एक बड़ी उपलब्धि है। हमने अक्टूबर 2018 तक प्रदेश के शत-प्रतिशत घरों में बिजली पहुंचाने का लक्ष्य रखा है। गरियाबंद जिले के भी सभी घरों में बिजली पहुुंच जाएगी और इन घरों में नि:शुल्क एलईडी बल्ब भी दिए जाएंगे।
इस अवसर पर पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री अजय चन्द्राकर, महिला एवं बाल विकास मंत्री और गरियाबंद जिले की प्रभारी रमशीला साहू, लोकसभा सांसद चन्दूलाल साहू, विधायक संतोष उपाध्याय और जिला पंचायत गरियाबंद की अध्यक्ष श्वेता शर्मा सहित अनेक जनप्रतिनिधि और किसान हजारों की संख्या में उपस्थित थे।

Source: 
Vision News Service

Related News