गर्भवती माताओं को सुविधा उपलब्ध कराएं

collecter bethak-2.jpg

गर्भवती माताओं को सुविधा उपलब्ध कराएं । शुक्रवार को ये बातें कलेक्टर शम्मी आबिदी ने कलेक्टोरेट में बैठक के दौरान आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं और अधिकारीयों से कही । उन्होंने आगे कहा कि डिस्ट्रिक्ट कोऑडिनेटर, मितानिन, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता के माध्यम से ब्लॉकवार गर्भवती माताओं का चिन्हांकन करके उनका नियमित स्वास्थ्य परीक्षण करवाने और फोलिक एसिड तथा आयरन की गोली अनिवार्यत: देने कि व्यवस्था करें ।
प्राथमिक और सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों में लोगों को स्वास्थ्य सुविधाएं बेहतर मिले ऐसी व्यवस्था शत-प्रतिशत करें। साथ ही दूरस्थ अंचल निवासियों को भी प्राथमिकता से सुविधा उपलब्ध कराने के निर्देश दिए हैं।
00 कलेक्टर ने दिए सख्त निर्देश, फॉलो नहीं तो होगी कार्रवाई :
उन्होंने बैठक में बीएमओ और विकास खण्ड कार्यक्रम अधिकारी से गर्भवती माताओं की 16 स्वास्थ्य सूचांक, टीकाकरण, बच्चों की कुपोषण और स्वास्थ्य सुविधाओं की विस्तार से जानकारी ली और निराशाजनक प्रदर्शन करने वाले घरघोड़ा, तमनार, लैलूंगा, धरमजयगढ़, सारंगढ़ के स्वास्थ्य अधिकारियों को कड़ी हिदायत देते हुए व्यवस्था में सुधार लाने के सख्त निर्देश दिए। कलेक्टर ने कहा कि, आगामी माह सितम्बर में अगली बैठक रखी जाएगी। आपके ब्लाकवार 16 स्वास्थ्य सूचांक रैकिंग में बढ़ोत्तरी दिखनी चाहिए। इसकी ऑनलाईन एन्ट्री करने के भी निर्देश दिए हंै। अगली बैठक में प्रगति नहीं दिखी तो संबंधित बीएमओ और बीपीएम के सैलरी तथा एग्रीमेन्ट रोकने की कार्रवाई की जाएगी, जिसके लिए वे स्वयं जिम्मेदार होंगे।
महिला बाल विकास के सीडीपीओ, मितानिन, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता के साथ समन्वय बनाकर काम करें इसके लिए अपने स्तर पर एक बैठक आयोजित करके ग्राम पंचायतवार नवविवाहित महिलाओं की अलग से रजिस्टर संधारित करवाएं ताकि महिला के प्रथम प्रसव होने पर उनकी सतत मॉनिटरिंग होती रहे और सही समय पर संस्थागत प्रसव का लाभ उनको दिया जा सके। साथ ही जिला स्वास्थ्य अधिकारी कोकहा कि ब्लॉकवार 102 और 108 वाहनों की सुविधा मिले ऐसी व्यवस्था करें। जिन ब्लॉकों में वाहनों की स्थिति अच्छी नहीं है वहां नये वाहन उपलब्ध कराने के भी निर्देश दिए हैं। इस अवसर पर मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.एचएस उरांव, जिला कार्यक्रम प्रबंधक निशामणी साहू, जिला कुष्ठ अधिकारी डॉ.पीजी कुलवेदी, बीएमओ, बीपीएम एवं स्वास्थ्य विभाग के अधिकारीगण उपस्थित थे।
00 लापरवाही बर्दास्त नहीं की जाएगी:
कलेक्टर ने कहा कि बीएमओ अपने क्षेत्रों का नियमित निरीक्षण करें और रात पाली में भी स्वास्थ्य केन्द्रों में एनएम, नर्स तथा स्वास्थ्य कर्मचारियों को उपस्थित रहने के लिए निर्देशित करें। ताकि कोई भी व्यक्ति स्वास्थ्य सुविधाओं से वंचित न होने पाए। निरीक्षण के दौरान यदि स्वास्थ्य केन्द्र बंद पाए जाते है या संबंधित एनएम या स्वास्थ्य कर्मचारी अनुपस्थित पाए जाते हैं तो तत्काल उनके ऊपर सख्त कार्यवाही करें। स्वास्थ्य सुविधाओं में किसी भी तरह की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी। उन्होंने बीएमओ को हिदायत देते हुए कहा कि होम डिलवरी किसी भी स्थिति न होने पाए, इसका विशेष ध्यान रखें।
00 ली गई विस्तार से जानकारी :
समीक्षा के दौरान कलेक्टर ने अधिकारियों से 16 सूचंाक के तहत पूर्ण गर्भवती महिलाओं को प्रथम तिमाही में कितना रजिस्ट्रेशन किया गया है। गंभीर स्थिति में कितनी महिलाओं को स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध कराई गई है। संस्थागत प्रसव की जानकारी मातृ स्वास्थ्य और शिशु स्वास्थ्य कार्यक्रम की प्रगति, राष्ट्रीय स्वास्थ्य बीमा योजना तथा अन्य स्वास्थ्य योजनाओं की विस्तार से जानकारी ली।

Source: 
visionnewsservice.in

Related News