चिन्ह के स्थान पर चेहरे से चुनाव लडऩे की अनुमति देने निर्वाचन आयोग से आग्रह

दुर्ग लोकसभा क्षेत्र से छत्तीसगढ़ स्वाभिमान मंच के घोषित प्रत्याशी और पार्टी के अध्यक्ष राजकुमार गुप्त ने भारत निर्वाचन आयोग को पत्र लिखकर आयोग की ओर से निर्धारित चुनाव चिन्ह के बजाय अपने चेहरा (फोटो) को चुनाव चिन्ह के रूप में प्रयुक्त करके लोकसभा चुनाव 2019 में चुनाव लडऩे की अनुमति प्रदान करने का आग्रह किया है।
राजकुमार गुप्त ने भारत निर्वाचन आयोग को लिखे पत्र में कहा है कि पंजीकृत गैर मान्यता प्राप्त राजनीतिक दल का प्रत्याशी होने के कारण चुनाव के लगभग 15 दिन पूर्व चुनाव चिन्ह का आबंटन किया जायेगा, इतने कम समय में लगभग 16 लाख मतदाताओं तक चुनाव चिन्ह पहुंचाना दुरूह कार्य है जबकि मान्यता प्राप्त राजनीतिक दल के चुनाव चिन्ह से मतदाता भली भाँति परिचित रहते हैं जिसका लाभ उस दल के प्रत्याशी को मिलता है और उसे लोकसभा के लिए चुनें जाने का बेहतर अवसर प्राप्त होता है।
राजकुमार गुप्त ने आयोग से कहा है कि दुर्ग लोकसभा क्षेत्र के बहुतायत मतदाता मुझे चेहरे से पहचानते हैं और चुनाव चिन्ह के बजाय मुझे चेहरे से चुनाव लडऩे से अधिक वोट प्राप्त होने की संभावना है अत: मुझे आयोग के निर्धारित चुनाव चिन्ह के स्थान पर अपने चेहरा ( फोटो) से चुनाव लडऩे की अनुमति प्रदान किया जाये।
राजकुमार गुप्त का कहना है कि दुर्ग लोकसभा के अधिकांश मतदाता शिक्षित हैं और उन्हें प्रत्याशी को पहचानने के लिये किसी चुनाव चिन्ह की आवश्यकता नहीं है, चुनाव चिन्ह से मतदान कराना एक तरह से शिक्षित मतदाता का अपमान करने के समान है।

Source: 
visionnewsservice.in

Related News