चुनाव परिणाम को प्रभावित करने का कुत्सित प्रयास : सिंहदेव

छत्तीसगढ़ विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष टीएस सिंहदेव ने राज्य सरकार व प्रशासन की भूमिका पर सवालिया निशान उठाया है। प्रदेश में मतदान के पश्चात स्ट्रांग रूम में रखे ईवीएम मशीनों की सुरक्षा पर लगातार सेंधमारी की घटनाओं को गंभीरता से लेते हुये, कड़ा ऐतराज किया है।
उन्होंने कहा है कि निर्वाचन संहिता के अनुसार इलेक्ट्रानिक उपकरण स्ट्रांग रूम के आस-पास पूर्णतः प्रतिबंधित है, बावजूद इसके लगातार ऐसी घटनाएं प्रकाश में आ रही है, जो कि प्रशासनिक कार्यप्रणाली पर सवाल उठा रही है। 27 नवंबर को धमतरी के लाईवलीहुड कॉलेज स्थित स्ट्रांग रूम में एक जिम्मेदारी अधिकारी चार लोगों के साथ लैपटॉप व अन्य उपकरण के साथ लगभग तीन घंण्टे तक नियम विरुद्ध तरीके से रहे। आश्चर्य व अत्यंत खेद का विषय है कि, प्रशासनिक व जिम्मेदार अधिकारी के साथ कुछ लोग लैपटॉप इत्यादि लेकर स्ट्रांग रूम में ईवीएम तक पहुंच गये थे।
इसी प्रकार बलौदाबाजार जिले में भी स्ट्रांग रूम की सुरक्षा को लेकर सवाल उठाया गया है। बलौदाबाजार के स्ट्रांग रूम के पीछे के हिस्से में संदिग्धों की आवाजाही देखी गई। ऐसी शिकायते प्रदेश के विभिन्न क्षेत्रों से प्राप्त हो रही है।
इसी क्रम में 4 दिसम्बर को बेमेतरा जिलान्तर्गत स्ट्रांग रूम परिसर में बीएसएफ के एक जवान को लैपटॉप का उपयोग करते पाया गया, जबकि उक्त क्षेत्र में किसी भी प्रकार के इलेक्ट्रानिक उपकरणों के इस्तेमाल पर पूर्णतः प्रतिबंध है। अतएव ऐसे दोषी जवान को तत्काल निलंबित कर वहां से हटाया जावे उसके विरुद्ध नियमानुसार कार्यवाही हो।
विधानसभा नेता प्रतिपक्ष टी.एस. सिंहदेव ने कहा है कि धमतरी, बेमेतरा व अन्य जगहों पर हुई ऐसी घटनाओं को निर्वाचन आयोग और राज्य सरकार गंभीरता से लेते हुये तत्काल जांच और कार्यवाही करे।

Source: 
visionnewsservice.in

Related News