छत्तीसगढ़ का आदिवासी तब भी गोली खाने को मजबूर था और आज भी गोली खाने के लिए मजबूर है- मनीष सिसोदिया

छत्तीसगढ़ का आदिवासी तब भी गोली खाने को मजबूर था और आज भी गोली खाने के लिए मजबूर है- मनीष सिसोदिया

दीपावली के बाद छत्तीसगढ़ में प्रथम चरण के लिए होने वाले चुनाव का प्रचार अभियान अपने पूरे शबाब पर है. भाजपा-कांग्रेस और आम आदमी पार्टी सहित सभी दल अपने-अपने स्टार प्रचारकों के साथ प्रत्याशियों के पक्ष में प्रचार कर रहे हैं. आज पीएम नरेन्द्र मोदी, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और दिल्ली के उप मुख्यमंत्री व आम आदमी पार्टी नेता मनीष सिसोदिया भी छत्तीसगढ़ पहुंचकर पार्टी व प्रत्याशियों के पक्ष में आम सभाएं ली. इस दौरान सिसोदिया ने बस्तर के आदिवासियों की हालत का जिम्मेदार कांग्रेस और भाजपा को ठहराते हुए दोनों पार्टियों पर जमकर हमला किया. सिसोदिया ने आम सभा को संबोधित करते हुए कहा कि मैं जब हवाई अड्डे पर पहुंचा तो पता चला वहां दिल्ली से दो लोग और आने वाले हैं मोदी और राहुल गांधी. आज वो भी वोट मांगने आए हैं. जब छत्तीसगढ़ बना था तो बड़े उम्मीदों से बना था. ये कहा गया था छत्तीसगढ़ के जमीन के अंदर इतना संसाधन छिपा है. सपना दिखाया गया था कि इतना आयरन, इतना बाक्साइट, इतना सोना इत्यादि है कि इसका सही तरीके से मैनेजमेंट कर लिया गया तो छत्तीसगढ़ का बच्चा-बच्चा अमीर हो जाएगा ये सपना दिखाया गया था. सिसोदिया ने कहा छत्तीसगढ़ का आदिवासी मजदूर वहीं खेती कर रहा है. लेकिन उस बाक्साईट से उस आयरन से उस बिजली से कौन अमीर हुआ और सिर्फ ना सिर्फ अमीर हुआ बल्कि अमीर होकर देश भी छोड़कर भाग गया. छत्तीसगढ़ के आदिवासियों को कोई फायदा हुआ, छत्तीसगढ़ का आदिवासी तब भी गोली खाने को मजबूर था और आज भी गोली खाने के लिए मजबूर है. वो तब भी भी गाली खाने को मजबूर था आज भी गाली खाने को मजबूर है.
पीएम मोदी और राहुल गांधी के छत्तीसगढ़ आगमन पर सिसोदिया ने कहा कि मेरे साथ दो और नेता आज आए हैं. एक देश के प्रधानमंत्री हैं और एक विपक्षी पार्टी के नेता है. उन्होंने आरोप लगाया कि छत्तीसगढ़ जब बना तो 3 साल कांग्रेस की सरकार थी यहां पर. उन्होंने छत्तीसगढ़ को लूट का अड्डा बना दिया. सारे के सारे संसाधन लुटाने शुरु कर दिया. छत्तीसगढ़ वालों पर नहीं आदिवासियों पर नहीं उन लोगों पर जो लूटेंगे छत्तीसगढ़ को और चंदा देंगे इन लोगों की पार्टी को. उन लोगों पर लुटाना शुरु कर दिया. जो लूटेंगे छत्तीसगढ़ वालों को, लूट होगी जो लूट मचाएंगे छत्तीसगढ़ के संसाधनों की और लूट कर बैंक बैलेंस बढ़ाएंगे कांग्रेस के नेताओं का. छत्तीसगढ़ की जनता ने जब यह देखा तो 15 साल पहले पार्टी बदल दिया. कांग्रेस वालों को आईना दिखा दिया. नई राजनीति की शुरुआत की बीजेपी को लेकर आ गए. मैं पत्रकार भी रहा हूं सामाजिक कार्यकर्ता भी रहा हूं, छत्तीसगढ़ आते रहा हूं. बस्तर भी आते जाते रहा हूं. बहुत लोगों से सुना हूं राज्य में सिर्फ बीजेपी की नहीं बीजेपी और कांग्रेस की मिली जुली सरकार चल रही है. लूट की जो रफ्तार छत्तीसगढ़ के संसाधनों के लूट की रफ्तार जो कांग्रेस ने 18 साल पहले शुरु की थी भाजपा ने कांग्रेस का रिकार्ड तोड़ा और लूट को और आगे बढ़ाया.
मनीष सिसोदिया ने कहा कि दोनों आज आए हुए हैं यहां वोट मांगने, बात सिर्फ इतनी है कि बस्तर 12 तारीख को वोट डालने जाएगा. मोदी का वक्तव्य मैं सुन रहा था रास्ते में गाड़ी मैं बैठकर. कह रहे हैं बस्तर में कोई और जीत गया तो बस्तर जल उठेगा, मैं कहना चाहता हूं आप बस्तर की चिंता छोड़िये बस्तर के आदिवासियों के चूल्हे की चिंता करिये. आप की और कांग्रेस की इस मिली जुली लूट के चक्कर में बस्तर के आदिवासी के घर में चूल्हा नहीं जल रहा है. आप डराते हो कि बस्तर का आदिवासी डर जाए और वापस वोट आपको दे दे. अबकी बार तो बस्तर का बच्चा-बच्चा कह रहा है गांव गांव कह रहा है अबकी बार बदल कर रहेंगे. 15 साल तक विकल्प नहीं 15 साल पहले जिन लोगों को विकल्प माना वो भी उतने ही धोखेबाज निकले, उतने ही लुटेरे निकले. 15 साल बाद आज विकल्प आया है. आज छत्तीसगढ़ के लोगों के पास विकल्प है. सब बदलना चाहते हैं आम आदमी पार्टी की ओर उम्मीद से देख रहे हैं. आम आदमी पार्टी ने कोमल को मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार बनाया है. इस उम्मीद से देख रहे हैं कि एक आम आदिवासी का बेटा है. विधानसभा में बैठेगा मुख्यमंत्री के रुप में संसाधनों का मैनेजमेंट करेगा तो उनके लूट कर दुनिया के बड़े बड़े कार्पोरेट को मुनाफा देकर अपनी पार्टी और अपना बैंक बैलेंस नहीं बढ़ाएगा. ब्लकि छत्तीसगढ़ के आदिवासियों का बैंक बैलेंस बढ़ाएगा.

Source: 
lalluram.com

Related News