छत्तीसगढ़ को मधुमेह मुक्त राज्य बनाने का लक्ष्य : चन्द्राकर

   छत्तीसगढ़ को मधुमेह मुक्त राज्य बनाने का लक्ष्य : चन्द्राकर

छत्तीसगढ़ सरकार प्रदेश को मधुमेह मुक्त राज्य बनाने का लक्ष्य लेकर सबके सहयोग से आगे बढ़ रही है। ये बात स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री अजय चन्द्राकर ने कही। आज मंगलवार सुबह उन्होंने रायपुर के खोखोपारा पुरानी बस्ती स्थित शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र में स्वास्थ्य शिविर की शुरुआत की। यह शिविर विश्व मधुमेह दिवस के अवसर पर किया जा रहा है। इसमें ब्लड प्रेशर और ब्लड शुगर जांच की जाएगी।
उन्होंने कहा कि, वर्तमान समय में अनियमित जीवन शैली और असंतुलित खान-पान की वजह से विगत बीस-पच्चीस वर्षों में देश और दुनिया में रक्तचाप और मधुमेह की बीमारी से पीडि़त लोगों की संख्या काफी बढ़ गई है। स्वास्थ्य के प्रति जागरूकता और अपनी जीवन शैली में परिवर्तन से ही इन बीमारियों से बचाव हो सकता है। उन्होंने खोखोपारा के शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र को विभिन्न प्रकार की जरूरी चिकित्सा सुविधाओं से सुसज्जित करने की घोषणा की। स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि आज विश्व मधुमेह दिवस के अवसर पर छत्तीसगढ़ के सभी सरकारी अस्पतालों में लोगों को रक्तचाप और ब्लड शुगर जांच की सुविधा दी जा रही है।
कार्यक्रम में प्रदेश के कृषि और जल संसाधन मंत्री बृजमोहन अग्रवाल भी शामिल हुए। उन्होंने भी अपने ब्लड प्रेशर और ब्लड शुगर की जांच करवायी। उनका भी रक्तचाप और ब्लड शुगर सामान्य पाया गया।
मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने कहा कि रक्तचाप और मधुमेह का मुख्य कारण अनियमित भोजन और अनियमित जीवन शैली है। कई लोगों में शारीरिक श्रम करने की आदत कम होती जा रही है। यह भी देखा गया है कि लोग घर का बना भोजन करने की बजाय होटल में फास्ट फूड आदि का सेवन करते हैं, जिनमें शरीर के लिए पोषक तत्वों की कमी होती है। इस वजह से भी लोग ऐसी बीमारियों का शिकार हो जाते हैं। उन्होंने कहा कि संयमित और नियमित जीवन शैली से मनुष्य काफी स्वस्थ रह सकता है।
इस अवसर पर पुरानी बस्ती के वार्ड पार्षद रमेश ठाकुर, स्वास्थ्य विभाग के प्रमुख सचिव सुब्रत साहू, स्वास्थ्य सेवाओं की संचालक रानू साहू, स्वास्थ्य विभाग की मितानिनें, स्वास्थ्य कार्यकर्ता और बड़ी संख्या में स्थानीय नागरिक उपस्थित थे।

Source: 
Vision News Service

Related News