जिला प्रशासन की टीम ने 18 श्रमिकों को बंधकमुक्त कराया

जिला प्रशासन की टीम ने 18 श्रमिकों को बंधकमुक्त कराया

जिला प्रशासन की टीम ने तेलंगाना राज्य के पेद्दापल्ली जिले से ईंट भट्ठे में कार्य कर रहे गरियाबंद जिले के 18 श्रमिकों और 9 बच्चों को विमुक्त कराया। तीन माह पहले इन श्रमिकों में से 14 श्रमिकों को ग्राम रांगापुर बी.बी.एस ब्रिक्स में और 4 श्रमिकों को ग्राम बैगनपेठ एम.एल.सी ब्रिक्स में बंधक बनाया गया था, जिन्हें 06 दिसम्बर को ईंट भट्ठों में जाकर छुड़ाया गया। सभी बंधकों को आज 7 दिसम्बर को सुरक्षित रूप से वापस गरियाबंद लाया गया। इन श्रमिकों को आज शाम कलेक्टोरेट में कलेक्टर श्याम धावड़े और एसपी एम.आर. आहिरे के समक्ष उनके परिजनों को सौंपा गया। इस अवसर पर कलेक्टर श्याम धावड़े ने श्रमिकों से कुशल क्षेम की जानकारी ली। धावड़े ने श्रमिकों से कहा कि उन्हें रोजगार के लिए बाहर जाने की आवश्यकता नहीं है, गांव में ही पर्याप्त कार्य उपलब्ध है। उन्होंने श्रमिकों से राशन कार्ड और पीडीएस से राशन वितरण की जानकारी ली। ग्रामीणों ने बताया कि उनका राशन कार्ड बना हुआ है और उन्हें इस कार्ड से राशन सामग्री भी मिलती है।
श्रम निरीक्षक एस.आर. पटेल ने बताया कि गरियाबंद जिले के 18 श्रमिकों को तेलंगाना राज्य के पेद्दापल्ली जिले में बंधक बनाकर रखने की शिकायत कलेक्टर के समक्ष की गई थी। कलेक्टर श्याम धावड़े ने श्रम विभाग को तत्काल टीम गठित कर बंधक श्रमिकों को मुक्त कराने की कार्यवाही करने के निर्देश दिये थे, जिसके परिपालन में नायब तहसीलदार जे.पी. गोस्वामी, श्रम निरीक्षक एस.आर. पटेल, संरक्षण अधिकारी फनीन्द्र जायसवाल, सब इंस्पेक्टर सतीश सोनवानी, आरक्षक अरविंद मरावी और पंकज शिंदे के साथ श्रमिकों को विमुक्त कराने के लिए टीम गठित की गई। गरियाबंद जिले की टीम ने बंधकों की ओर से दिए गए लोकेशन ग्राम रांगापुर और ग्राम बैगनपेठ ईंट भट्ठे पहुंचकर उन्हें विमुक्त कराया। सभी बंधक छुरा विकासखण्ड के ग्राम डांगनबाय के निवासी हैं। मुक्त बंधकों में पुनीत राम, बुधियारी बाई, पुरानिक राम, रूखमणी, दयालु बंजारे, रजनी बाई, शत्रुघन, संतोषी, छबीलाल, राखी बाई, गणेश विश्वकर्मा, नागेश्वरी, थनवार, ऋतु बंजारे, रवि शंकर, देवानंद बंजारे, किरण बंजारे और कुमारी दुर्गा शामिल है।

Source: 
visionnewsservice.in

Related News