ट्रेफिक जिला पुलिस ने स्कूलों मे दिया यातायात नियमों की जानकारी

Vns yatayat

बच्चों को यातायात नियमों की जानकरी देकर बच्चों को जागरूक कर रहे है। पुलिस अधीक्षक डॉ. लाल उमेद के निर्देशन एवं उप पुलिस अधीक्षक यातायात कामता सिंह दीवान के मार्गदर्शन एवं नेतृत्व में यातायात पुलिस नगर के सभी स्कूलों में जाकर बच्चों कों यातायात सड़क सुरक्षा की जानकारी दिया जा रहा है। जिसमें यातायात प्रशिक्षक स.उ.नि बोधन साहू, ट्रेफिक हवलदार तेजलाल देशमुख द्वारा बच्चों कों यातायात सड़क सुरक्षा एवं संकेतों के संबंध में यातायात नियमों की जानकारी दिया गया। जिला कबीरधाम में नया शैक्षणिक सत्र सुरू होते ही यातायात पुलिस स्कूल में जाकर बच्चों को यातायात के नियम और उन्हें पालन करने की जानकारी देकर उन्हें जागरूक कर रहे हैै। इसके तहत 21 जुलाई को सरस्वती शिशुमन्दिर कवर्धा और 22 जुलाई को स्वामी विवेकानन्द उच्च्तर माध्यमिक विद्यालय के बच्चों, शिक्षकों एवं बस चालक/परिचालकों को यातायात सड़क सुरक्षा की जानकारी दिये।
उप पुलिस अधीक्षक यातायात कामता सिंह दीवान द्वारा बच्चों को जेब्रा क्रासिंग, स्आप लाईन एवं सिंगनल के बारे में बताया, इसके अलावा बच्चों को प्रोजेक्टर के माध्यम से घटनाओं को दृश्यांकित किये की दुर्घटना किसी के साथ भी हो सकता है। सड़क पर हमेशा बायें चलने, यातायात संकेतों का पालन करनें, बीच सड़क पर वाहन न खड़ी करने, सड़क को खेल का मैदान न समझनें, दुपहिया वाहन मे तीन सवारी न बैठनें, वाहनों मे प्रेशर हार्न का प्रयोग न करने नाबालिग बच्चों को वाहन न चलाने देने, वाहनों का सम्पूर्ण कागजात साथ रखनें, सौंदर्य प्रदर्शन व वाहन चालन एक साथ न करने, वाहन तेज रफ्तार में न चलाने एवं गति सीमा में ही वाहन चलाने, साथ-साथ उन्होंने कहा की देश में हर वर्ष लाखों लोग सड़क हादसे में मौत का शिकार होते है यदि कवर्धा शहर की बात करें तो यहा भी सैकड़ों लोग प्रति वर्ष सड़क हादसे में जान गंवा रहे है इसमें सबसे अधिक संख्या युवा वर्ग की है। सरहदों में जाकर लडऩा ही देश सेवा नही है नागरिकों को कर्तव्यों का पालन करना भी समाज सेवा और देश सेवा है। विद्यार्थियों से संवाद करते हुए कहा की पुलिस अपना रोल भी निभा सकती है जब आम जनता पुलिस के साथ दे अनुशासन के बिना कानून व्यवस्था बनाये रखने की कल्पना नहीं की जा सकती। बच्चों को अनुशासन में रहने के लिए माता पिता समय-समय पर पुलिस की भूमिका अदा करनी चाहिए, इससे बच्चा न तो कानून तोड़ेगा बल्की एक जिम्मेदार नागरिक भी बनेगा न यातायात कानून का उल्लघंन करें और न किसी को करने दे। शिक्षकों को यातायात के नियमों को बताते हुए बच्चों के शिक्षा एवं संसकार में यातायात नियमों को शामिल करने कहा।

Source: 
vns yatayat

Related News