डयूटी से गायब रहते थे बीएमओ और डॉक्टर, कलेक्टर ने कार्रवाई करते हुए दोनों अधिकारी को प्रभाव से हटाया

WhatsApp-Image-2019-02-07-at-9.09.49-PM-990x557.jpg

जिले के मस्तूरी और रतनपुर सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों में चिकित्सा व्यवस्था में भारी लापरवाही बरतने पर कलेक्टर डाॅ. संजय अलंग ने सख्त कार्यवाही की है. कलेक्टर के निर्देश पर मस्तूरी के बीएमओ और रतनपुर के चिकित्सा अधिकारी को तत्काल प्रभाव से हटा दिया गया है.

कलेक्टर डाॅ. संजय अलंग के निर्देश पर मस्तूरी विकासखण्ड के चिकित्सा अधिकारी डाॅ. प्रदीप घोष को तत्काल प्रभाव से पद से हटा दिया गया है. उनकी जगह पर डाॅ. नंदराज कंवर चिकित्सा अधिकारी सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र मस्तूरी को प्रभारी खण्ड चिकित्सा अधिकारी मस्तूरी का प्रभार सौंपा गया है. जबकि नसबंदी कांड में उन्हें हटाया गया था. इसके साथ ही डाॅ. अनिल श्रीवास्तव को तत्काल प्रभारी चिकित्सा अधिकारी सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र रतनपुर से हटाते हुए उनकी जगह डाॅ. विजय चंदेल को प्रभारी चिकित्सा अधिकारी बनाया गया है. इसके अलावा कलेक्टर ने अनुपस्थित डाॅक्टरों के वेतन काटने के निर्देश दिए है.

कलेक्टर डाॅ. संजय अलंग को सूचना मिली थी कि विभिन्न स्वास्थ्य केन्द्रों में लापरवाही बरती जा रही है, जिस पर उन्होंने सभी विकासखण्डों के स्वास्थ्य केन्द्रों में अलग-अलग एसडीएम को भेजकर औचक निरीक्षण कराया. जिसके बाद डाॅ. अलंग ने सीएमएचओ डाॅ. बी.बी. बोर्डे को लापरवाही बरतने वाले डाॅक्टरों पर सख्त कार्रवाई के निर्देश दिए.

सीएमएचओ डाॅ. बी.बी.बोर्डे ने बताया कि मस्तूरी के बीएमओ के खिलाफ काफी दिनों से शिकायते मिल रही थी और वे मस्तूरी में न रहकर आना-जाना कर रहे थे. साथ ही वे कार्यों के प्रति उदासीनता भी बरत रहे थे. उन्होंने बताया कि रतनपुर स्वास्थ्य केन्द्र में भी प्रभारी चिकित्सा अधिकारी लगातार स्वास्थ्य सेवाओं में लापरवाही बरत रहे थे और कुछ दिन पहले एक शव के पोस्टमार्टम में देरी के लिए भी उनकी लापरवाही सामने आई है.

Source: 
lalluram.com

Related News