डाक मतपत्र में नाम नहीं होने से बिफरे कर्मचारी, मतदान से पहले पोलिंग पेटी उठाने से किया साफ इंकार…

डाक मतपत्र में नाम नहीं होने से बिफरे कर्मचारी, मतदान से पहले पोलिंग पेटी उठाने से किया साफ इंकार…
डाक मतपत्र में नाम नहीं होने से बिफरे कर्मचारी, मतदान से पहले पोलिंग पेटी उठाने से किया साफ इंकार…
डाक मतपत्र में नाम नहीं होने से बिफरे कर्मचारी, मतदान से पहले पोलिंग पेटी उठाने से किया साफ इंकार…

छत्तीसगढ़ में दूसरे चरण के चुनाव को लेकर मुंगेली जिले के दोनों विधानसभा क्षेत्र मुंगेली और लोरमी में निर्वाचन में तैनात कर्मचारी डाकमत पत्र से मतदान कर रहे हैं, लेकिन बहुत से कर्मचारियों का नाम डाकमत पत्र के सूची से गायब है. नाराज कर्मचारियों ने साफ तौर पर चेतावनी दी है कि जब तक वो अपने मतों का प्रयोग नहीं करेंगे, तब तक पोलिंग पेटी को नहीं उठाएंगे.

लोकतंत्र के सबसे बड़े त्योहार में लोगों में मतों के अधिकारों को लेकर अलख जगाने एक तरफ जहां जिला निर्वाचन तरह-तरह के कार्यक्रम कर रहा है, वहीं दूसरी ओर निर्वाचन शाखा की तैयारी इसकी पोल खोली रही है. स्वयं निर्वाचन विभाग के कर्मचारी अपने मतों का प्रयोग करने में कठिनाइयों का सामना कर रहे हैं.

मतदान करने के लिए लगी कर्मचारियों की कतार
डिप्टी कलेक्टर आर तम्बोली ने इस पूरे मामले में फिर से प्रारूप 12 भरकर जमा करने की बात कह रहे हैं, लेकिन प्रारूप 12 का आवेदन निर्वाचन शाखा में है ही नहीं, ऐसे में प्रारूप 12 को लेकर कर्मचारियों को निर्वाचन शाखा से कोई उचित जवाब नहीं मिल रहा है. नाराज कर्मचारियों ने साफ तौर पर चेतावनी दी है कि जब तक वो अपने मतों का प्रयोग नहीं करेंगे, तब तक पोलिंग पेटी को नहीं उठाएंगे.

निर्वाचन विभाग की खुली पोल
एक बार आवेदन भरने के बाद भी बार-बार आवेदन भरवाने से निर्वाचन विभाग की पोल खोलकर रख दी है, वहीं अधिकारी ने बताया कि जिले में अब तक मुंगेली से 603 व लोरमी से 842 पात्र लोगों का आवेदन प्राप्त हो गया है, और भी इसमें लोगो के आवेदन आने से बढ़ेगा. वहीं प्रारूप 12 भरने के कुछ कंडीशन है. साथ ही डाकमत पत्र से लोग जिनको मताधिकार की अनुमति होगी वो 11 दिसम्बर तक मतदान कर सकेंगे.

Source: 
lalluram.com

Related News