तीज पर सुहागिनों ने रखा निर्जला व्रत

24 I-i.jpg

तीज पर्व को लेकर 24 अगस्त को क्षेत्र में उत्साह का वातावरण बना रहा। बाजार भी गुलजार रहा, खासकर कपड़े की दुकान, सुहाग भण्डारों व ब्यूटी पार्लरों में महिलाओं की भीड़ देखी गई। पति की दीर्घायु के लिए सुहागिनों की ओर से रखा जाने वाला यह व्रत का विशेष महत्व है। महिलाएं शाम होते ही शिव मंदिरों में जाकर मां पार्वती और भगवान शंकर की पूजा की तैयारी में जुटी रही। तीज का त्यौहार भारतीय संस्कृति में विवाहित स्त्रियों के लिए सर्वाधिक कठिन व्रतों में से एक माना गया है। अविवाहित कन्याओं से लेकर उम्रदराज महिलाएं इस व्रत के लिए उत्साहित रहती हैं। इस कठिन व्रत के प्रति घर के पुरूष वर्ग भी इनकी उत्साह को बनाए रखने तरह-तरह के जतन में जुटे नजर आए। इस पर्व को लेकर व्यापारी खासकर कपड़े की दुकान व सौंदर्य प्रसाधन की दुकानें आकर्षक तौर पर सजी रही, जहां दिनभर महिलाओं की भीड़ देखी गई। साड़ी, चूड़ी की दुकानों में जमकर खरीददारी हुई। हरितालिका तीज का व्रत इस साल 24 अगस्त को मनाया गया। इस व्रत में कुछ ना खाने-पीने की वजह से ही इसका नाम हरितालिका तीज पड़ा। देवी पार्वती की ओर से इस उपवास का उल्लेख मिलता है। इसी परम्परा को अपनाते हुए आज भी भारतीय संस्कृति के मानने वाले महिलाओं में देखा जाता है। इस पवित्र त्यौहार में जहां सुहागिनों ने व्रत रखा वहीं शादी योग्य कुंवारी कन्याएं भी योग्य वर की कामना को लेकर व्रत रख्री

Source: 
visionnewsservice.in

Related News