देश के लिए मॉडल बना रायपुर का केन्द्रीय विद्यालय : बैस

देश के लिए मॉडल बना रायपुर का केन्द्रीय विद्यालय : बैस

राजधानी रायपुर के दीनदयाल उपाध्याय नगर में संचालित केन्द्रीय विद्यालय क्रमांक-2 पूरेे देश के केन्द्रीय विद्यालयों के लिए एक मॉडल स्कूल बनेगा और एक नई पहचान स्थापित करेगा। ये बातें रायपुर लोकसभा क्षेत्र के सांसद रमेश बैस ने कही। वे शुक्रवार को केन्द्रीय विद्यालय क्रमांक-2 में जिला खनिज निधि से स्वीकृत करीब साढ़े तीन करोड रुपए के विकास कार्यों का भूमिपूजन और लोकार्पण करने पहुंचे थे।
00 पालकों के हर साल बचेंगे 5 करोड़ रुपए :
उन्होंने कहा कि, यह देश का पहला ऐसा केन्द्रीय विद्यालय है, जहां मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के नेतृत्व में राज्य सरकार और जिला प्रशासन की ओर से जिला खनिज निधि से स्कूल के लिए भवन बनाया जा रहा है। इस भवन के बनने राजधानी रायपुर के करीब 1100 अतिरिक्त बच्चों को केन्द्रीय विद्यालय में अध्ययन करने का अवसर मिल रहा है। एक बच्चे को निजी स्कूल में पढ़ाने से जहां साल में करीब 50 हजार रुपए तक खर्च होते हैं। ढाई करोड़ के भवन बन जाने से 1100 बच्चों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा मुहैया होगी, जिससे अभिभावकों का करीब 5 करोड़ रुपए हर साल बचेंगे।
कार्यक्रम की अध्यक्षता छत्तीसगढ़ शासन के कृषि मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने की। स्कूल शिक्षा मंत्री केदार कश्यप, रायपुर के महापौर प्रमोद दुबे, रायपुर ग्रामीण के विधायक सत्यनारायण शर्मा, रायपुर उत्तर के विधायक श्रीचंद सुन्दरानी, छत्तीसगढ़ भवन और अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण मण्डल के अध्यक्ष मोहन एंटी, उपाध्यक्ष सुभाष तिवारी, पार्षद मिनल चौबे विशिष्ट अतिथि के रूप में उपस्थित रहे।
गौरतलब है कि राजधानी रायपुर में केन्द्रीय विद्यालय में अध्ययन के लिए बड़ी संख्या में आवेदन प्राप्त हो रहे थे। भवन के अभाव में सीटों की संख्या में वृद्धि नहीं हो पा रही थी। इसे देखते हुए मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के निर्देशन पर जिला प्रशासन की ओर से जिला खनिज निधि से भवन निर्माण की स्वीकृति प्रदान की गई, जिससे केन्द्रीय विद्यालय क्रमांक-2 में अगले शैक्षणिक सत्र से सभी कक्षाओं के दो-दो सेक्शन के स्थान पर अब 4-4 सेक्शन की मंजूरी भारत सरकार के केन्द्रीय विद्यालय संगठन से प्रदान की गई है। इससे राजधानी रायपुर के करीब 1100 अतिरिक्त बच्चों को केन्द्रीय विद्यालय का लाभ मिल सकेगा। अतिरिक्त सेक्शनों के लिए जिला खनिज निधि से 2.37 करोड़ की लागत से 24 कमरों का भव्य भवन बनाया जा रहा है।
कृषि मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने कहा कि, राजधानीवासियों को तीन-तीन केन्द्रीय विद्यालयों का लाभ मिल रहा है, यह अपने आप में महत्वपूर्ण है। जिला खनिज निधि से भवन बन जाने से 1100 अतिरिक्त बच्चे केन्द्रीय विद्यालय में अध्ययन कर सकेंगे। हर माता-पिता की इच्छा होती है कि उनके बच्चे को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा मिले। इतनी सीट बढऩे से गरीब परिवार के बच्चों को इसका लाभ मिल सकेगा। विधायक सत्यनारायण शर्मा ने कहा कि बच्चों को गुणवत्तायुक्त शिक्षा मुहैया कराने का यह ऐतिहासिक कार्य है इसका लाभ यहां के बच्चों को उनके अभिभावकों को मिलेगा।
कलेक्टर ओपी चौधरी ने कहा कि, मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह की ओर से पिछले माह 14 अक्टूबर को नया रायपुर में राजधानी के तीसरे केन्द्रीय विद्यालय की शुरुआत की गई। इस दौरान उन्होंने केन्द्रीय विद्यालय क्रमांक-2 दीनदयाल उपाध्याय नगर में डबल सेक्शन के लिए भवन निर्माण की स्वीकृति प्रदान की थी। जिसके परिपालन में जिला खनिज न्यास निधि से डबल सेक्शन के 24 कमरों के भवन के लिए 2.37 करोड़ रुपए स्वीकृत कर भवन का निर्माण कराया जा रहा है। यह भवन आगामी मई माह तक बनकर तैयार हो जाएगा और जून माह से इस विद्यालय में हर कक्षा के चार-चार सेक्शन लगने लगेंगे। यह देश में केन्द्रीय विद्यालय का पहला ऐसा भवन होगा जिसे जिला प्रशासन की ओर से जिला खनिज निधि से बनाया जा रहा है। इसके साथ ही इतने कम समय में तैयार होने वाला यह भवन अपने आप में एक मिशाल होगा।
उन्होंने कहा कि केन्द्रीय विद्यालय क्रमांक-2 में जिला खनिज न्यास निधि सें यहां अध्ययनरत बच्चों के लिए सभी कक्षाओं का स्मार्ट क्लास के रूप मेें उन्नयन किया गया है। इसके साथ ही यहां डोम का निर्माण, चिल्ड्रन पार्क, ओपन एयर जिम, ओपन स्टेज और पेव्हड सरफेस सहित अन्य विकास कार्य कराए गए हैं।
इस अवसर पर जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी नीलेश क्षीरसागर, नगर निगम रायपुर के आयुक्त रजत बंसल, केन्द्रीय विद्यालय संगठन की उपायुक्त चंदना मण्डल, जिला शिक्षा अधिकारी एएन बंजारा सहित स्कूल के शिक्षक, छात्र-छात्राएं और पालक उपस्थित थे।

Source: 
Vision News Service

Related News