धान खरीदी, उपार्जन केन्द्रों के लिए नोडल अधिकारी नियुक्त

खरीफ विपणन वर्ष 2017-18 में सुगमता पूर्वक धान उपार्जन और पर्यवेक्षण के लिए विभिन्न विभागों के 74 अधिकारियों को खरीदी केन्द्रों का जिला स्तरीय नोडल अधिकारी नियुक्त किया है। बुधवार को ये नियुक्ति कलेक्टर डॉ. एस. भारतीदासन ने की। कलेक्टर के आदेशानुसार नोडल अधिकारी समिति मुख्यालय में किसान पंजीयन कार्य की निगरानी करेंगे । इस संबंध में वे एक नवंबर को जिला कार्यालय में प्रतिवेदन प्रस्तुत करेंगे।
00 क्या होगा इन नोडल अधिकारियों का कार्य :
इसी प्रकार धान खरीदी प्रारंभ होने के पूर्व 10 नवंबर को उपार्जन केन्द्रों की तैयारी की जानकारी देंगे। नोडल अधिकारियों की ओर से खरीदी प्रारंभ होने पर साप्ताहिक रिपोर्ट प्रत्येक मंगलवार को समय-सीमा बैठक में प्रस्तुत किया जाएगा। कलेक्टर ने कृषि विभाग के वरिष्ठ कृषि विकास अधिकारियों, कृषि विकास अधिकारियों और ग्रामीण कृषि विकास अधिकारियों को धान खरीदी केन्द्रों की दैनिक रिपोर्ट एसडीएम कार्यालय में प्रस्तुत करने की जिम्मेदारी दी है। रिपोर्ट में प्रतिदिन खरीदे गए धान की मात्रा, धान का नियमित परिवहन, किसानों के लिए पेयजल व्यवस्था, तराजू की उपलब्धता, धान के किस्मवार स्टेकिंग, किसानों से खरीदे गए धान का मूल्य उनके बैंक खातों में हस्तांतरण, उपार्जन केन्द्रों में कर्मचारियों की उपस्थिति आदि की नियमित जानकारी प्रस्तुत करेंगे। समिति के पंजीकृत किसान से ही धान खरीदा जाए इस पर विशेष नजर रखने को कहा गया है। उल्लेखनीय है कि राज्य शासन के निर्देशानुसार आगामी 15 नवंबर से 31 जनवरी18 तक उपार्जन केन्द्रों के माध्यम से समर्थन मूल्य पर धान खरीदी की जाएगी। औसत किस्म के कामन धान का मूल्य 1550 रुपए प्रति क्विंटल और ग्रेड ए धान का मूल्य 1590 रुपए प्रति क्विंटल निर्धारित किया गया है।

Source: 
Vision News Service

Related News