नई सरकार के नए कैलेण्डर की पुनिया ने की तारीफ

नई सरकार के नए कैलेण्डर की पुनिया ने की तारीफ

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने मंगलवार को नई दिल्ली में राज्यसभा सांसद पी.एल. पुनिया से सौजन्य मुलाकात की। उन्होंने पुनिया को छत्तीसगढ़ शासन के नए वर्ष 2019 का कैलेण्डर भेंट किया। राजस्व विभाग के शासकीय मुद्रणालय की ओर से प्रकाशित इस कैलेण्डर में भारत के सात दशकों की विकास यात्रा के साथ-साथ स्वतंत्रता संग्राम के दिनों में छत्तीसगढ़ के विभिन्न ऐतिहासिक प्रसंगों को भी प्रदर्शित किया गया है।
पुनिया ने इस बात पर खुशी जताई कि राज्य गठन के लगभग 18 वर्ष बाद छत्तीसगढ़ की नई सरकार के नए वार्षिक कैलेण्डर में देश और राज्य की महान विभूतियों को और उनके यादगार प्रसंगों को स्थान मिला है। उन्होंने कैलेण्डर की विषय-वस्तु और उसमें प्रकाशित चित्रों की विशेष रूप से तारीफ की। पुनिया से कैलेण्डर के प्रकाशन पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए मुख्यमंत्री बघेल को बधाई और शुभकामनाएं दी। भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में योगदान देने वाले छत्तीसगढ़ के महान नेताओं की स्मृतियां भी इस कैलेण्डर में संकलित हैं। उल्लेखनीय है कि राज्य सरकार का यह कैलेण्डर देश के महान नेताओं की छत्तीसगढ़ यात्रा पर भी केन्द्रित है। इसमें सन् 1930, 1933, 1936 और 1939 की यादगार तस्वीरें हैं। प्रदेश की नई सरकार की नई सोच के अनुरूप इसमें मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के ध्येय वाक्य ‘गढ़बो नवा छत्तीसगढ़’ का भी उल्लेख किया गया है। यह कैलेण्डर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के दिशा-निर्देशों के अनुरूप तैयार किया गया है।
यह भी उल्लेखनीय है कि छत्तीसगढ़ की नई सरकार के नए वर्ष के इस सचित्र कैलेण्डर में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के छत्तीसगढ़ प्रवास के विभिन्न प्रसंगों में से एक सन् 1933 की तस्वीर है, जिसमें विद्या मंदिर योजना के तहत रायपुर में प्रथम विद्या मंदिर का शिलान्यास करते हुए महात्मा गांधी मौजूद हैं। कैलेण्डर में इस प्रकार की अनेक ऐतिहासिक विभिन्न तस्वीरों को शामिल किया गया है। जैसे-छत्तीसगढ़ प्रवास पर सरदार वल्लभ भाई पटेल के साथ पंडित रविशंकर शुक्ल (25 नवम्बर 1936), राजर्षि पुरूषोत्तम दास टंडन के साथ बाबू गोविंददास तथा महंत लक्ष्मीनारायण दास ( सन् 1930), राष्ट्रीय विद्यालय, रायपुर में स्वतंत्रता संग्राम सेनानी सत्याग्रहियों का शिविर (1 मई 1939), देश के आर्थिक-औद्योगिक ढांचे के सूत्रधार प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू का भिलाई प्रवास (16 दिसंबर 1957), भारत के प्रथम राष्ट्रपति डॉ. राजेन्द्र प्रसाद का छत्तीसगढ़ प्रवास तथा भिलाई इस्पात संयंत्र के प्रादर्श का अवलोकन (5 फरवरी 1959), प्रधानमंत्री पं. जवाहर लाल नेहरू तथा गृहमंत्री लाल बहादुर शास्त्री का छत्तीसगढ़ प्रवास (सन्1962), सीमांत गांधी खान अब्दुल गफ्फार खान का छत्तीसगढ़ प्रवास (19 जनवरी 1970), प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की ओर से महानदी जलाशय परियोजना गंगरेल, जिला धमतरी का शिलान्यास (5 जून 1972), बस्तर में प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी आदिवासियों के साथ नृत्य करते हुए (8 जून 1972), प्रधानमंत्री राजीव गांधी का ग्राम दुगली, जिला धमतरी प्रवास (सन् 1985), एनटीपीसी के सीपत थर्मल पावर प्रोजेक्ट का राष्ट्र को समर्पण और लारा सुपर थर्मल पावर प्रोजेक्ट-1 का शिलान्यास करते हुए प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह (19 सितम्बर 2013)। यह सचित्र कैलेण्डर निर्धारित कीमत पर इन्द्रावती भवन के पीछे अटल नगर (नया रायपुर) स्थित शासकीय मुद्रणालय और राजनांदगांव स्थित शासकीय मुद्रणालय से प्राप्त किया जा सकता है।

Source: 
visionnewsservice.in

Related News