नक्सलियों के चुनाव बहिष्कार को मुंहतोड़ जवाब, जवानों ने ग्रामीणों के साथ संयुक्त बैठक कर मतदान करने के लिए किया जागरुक

नक्सलियों के चुनाव बहिष्कार को मुंहतोड़ जवाब, जवानों ने ग्रामीणों के साथ संयुक्त बैठक कर मतदान करने के लिए किया जागरुक

नक्सल प्रभावित इलाकों में आए दिन माओवादी संगठन को खत्म करने के लिए जिला पुलिस ने तेदमुंता बस्तर अभियान चला रखा है. इसी अभियान के तहत शुक्रवार को जवानों ने ग्रामीणों के साथ संयुक्त बैठक किया. ग्राम आरगटा, बोदिगुड़ा, टेट्राई और आरगट्टा में बैठक कर ग्रामीणों के होने वाले चुनाव में मतदान करने की अपील किये. पुलिस महानिरीक्षक अभिषेक मीना, अतरिक्त पुलिस अधीक्षक शलभ सिन्हा के दिशा-निर्देशन में ग्रामीणों को बैठक के माध्यम से यह भी बताया जा रहा है कि, किसी भी प्रलोभन में आये बिना, अपने विवेक का प्रयोग करते हुए विकास के लिए मतदान करें.

माओवादी संगठन को जड़ से खत्म करने के लिए चलाए जा रहे तेदमुंता अभियान के तहत सेना के जवानों ने ग्रामीणों से बैठक के दौरान चर्चाएं किए. इस दौरान जवानों ने ग्रामीणों को सुरक्षा का विश्ववास दिलाते हुए कहे कि जवान आपकी सुरक्षा में सदैव तात्यपर्य है. आगामी होने वाले चुनाव में मतदान के लिए घरों से निकलकर शत-प्रतिशत मतदान करें.

एसडीओपी विवेक शुक्ला ने कहा कि माओवादियों द्वारा लोकतांत्रिक चुनाव प्रक्रिया में व्याधान उत्पन्न करने के लिए लगातार किये जा रहे कायरता पूर्ण हमले का उल्लेख करते हुए ग्रामीणों को समझाया गया कि, वे माओवादियों का कतई साथ ना दे.सभी ग्रामीणों को अपने अपने क्षेत्र की सुरक्षा की जिम्मेदारी दी गयी, ताकि चुनाव नक्सल हिंसा मुक्त एवं सुरक्षित रूप से सम्पन्न हो सके.

सभी ग्रामीणों को बताया गया कि किसी अपराध के घटित होने की आशंका पर तत्काल इसकी सूचना पुलिस को प्रदान करें. जिससे पुलिस की बातों से सहमत होते हुए समस्त ग्रामीणों ने माओवादियों का कभी साथ ना देने एवम सशक्त लोकतंत्र के निर्माण के लिए शत प्रतिशत मतदान करने का वादा किया. साथ ही विकास के लिए पुलिस तथा प्रशासन का साथ देने की बात कही. उक्त अभियान में दोरनापाल एसडीओपी विवेक शुक्ला, दोरनापाल थाना प्रभारी विद्याभूषण एवम थाना बल मौजूद रहा.

Source: 
lalluram.com

Related News