नियमों को ताक पर रख कराया स्टाप डेम का निर्माण, अब मजदूरों का रोक दिया करोड़ों का भुगतान

नियमों को ताक पर रख कराया स्टाप डेम का निर्माण, अब मजदूरों का रोक दिया करोड़ों का भुगतान

स्टाप डेम निर्माण कार्य में भारी गड़बड़ी का मामला सामने आया है. डोंगरगढ़ ब्लाक के पलांदुर डोड़की और झिपा पंचायत में मनरेगा का काम किया गया था. जिसमें मजदूरों की 109 करोड़ रुपए का भुगतान नहीं किया गया है. जिसके बाद ग्रामीणों ने इसकी शिकायत कई बार कलेक्टर से की है. इसके बावजूद भी कोई न जांच हुआ औऱ न ही कोई कार्रवाई की गई है. अब इसकी शिकायत ग्रामीणों ने जिला पंचायत सदस्य से की है. शिकायत के बाद जिला पंचायत लेखापाल ने गांव पहुंचकर मजदूरों से पूछताछ के बाद रिपोर्ट जांच के लिए प्रशासन को दी है. वहीं प्रशासन ने तीन दिन में भुगतान करने की बात कहीं है.

कांग्रेस के सदस्य क्रांति बंजारे ने सूचना के अधिकार के तहत जानकारी लेने के बाद मामले का खुलासा किया था. क्रांति बंजारे ने मौके पर उपस्थित होकर गांवों में बने स्टाप डेम का निरीक्षण किया. जांच व दस्तावेजों के जांच से पता चला की डोंगरगढ़ ब्लाक के ग्राम पलांदुर डोड़की छीपा में आरईएस के द्वारा मनरेगा के तहत कराए गए स्टाप डेम निर्माण के दौरान भारी गड़बड़ी कि गई हैं. ठेकेदारों को फायदा पहुंचाने सारे नियमों को ताक में रखकर करोड़ों के घोटाले को अंजाम दिया गया हैं. इस बार मनरेगा में जल संरक्षण से संबंधित कार्यो को पर सबसे ज्यादा जोर दिया है. जिसमें 300 सौ करोड़ रुपये के भुगतान में 240 करोड़ रुपये मजदूरों के भुगतान से संबंधित है.

क्रांति बंजारे ने प्रशासन से शिकायत कर स्वीकृत कार्य में घोर अनियमितता बरतने वाले अधिकारियों पर कार्रवाई की मांग की है. ग्राम पंचायत पलांदुर डोड़की छिपा में स्टाप डेम निर्माण के लिए स्वीकृति दी गई थी. प्रशासनिक स्वीकृति आदेश का पालन निर्माण कार्य में नहीं किया है. निर्माण राशि का दुरुपयोग किया है. निर्मित स्टाप डेम में पूरी राशि फर्जी दस्तावेज के सहारे आहरित कर लिया गया है.

ग्रामीणों का कहना है कि मनरेगा के तहत स्टाप डेम में काम करने वाले मजदूरों का पैसा आज तक नहीं मिला है. भुगतान अब तक नहीं होने से मजदूर चक्कर काट रहे हैं. इसे मनरेगा अधिनियम का घोर उल्लंघन और अपराधिक कृत्य बताया है.

वहीं जिला पंचायत सीईओ चंदन कुमार का कहना है कि मनरेगा की भुगतान में अब तक 109 करोड़ रुपए की भुगतान राशि होने बाकी है. जिन मजदूरों ने अपना बैक एकाउंट दिया है. लेकिन एकाउंट नंबर गलत होने के कारण कई हितग्राहियों के एकाउंट में पैसा नहीं आया है. अब इन मजदूरों के आधार लिंग कराकर फिर से बैंक के तहत मनरेगा का भूगतान राशि भेजवाने की बात कहीं है.

Source: 
lalluram.com

Related News