पांचवीं राजकीय `लोककला के रंग जीवन के संग` कला प्रदर्शनी का उद्घाटन 8 को

महाकोशल कला परिषद की ओर से पांचवीं राजकीय लोक कला प्रदर्शनी का उदघाटन महाकोशल कला वीथिका में किया जाएगा। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि लायन अमरजीत सिंह दत्ता, पूर्व डिस्ट्रिक गवर्नर की ओर से दीप जलाकर 8 दिसंबर शनिवार को संध्या 5.30 बजे किया जाएगा।
स्व. कल्याण प्रसाद शर्मा स्मृति महाकोशल ललित कला महाविद्यालय, रायपुर और लायंस क्लब रायपुर फ्रेंड्स के सहयोग से शहीद वीर नारायण सिंह की स्मृति में 5 वीं द्वै राजकीयलोक कला के रंग जीवन के संग प्रदर्शनी कार्य कार्यक्रम किया जा रहा है। यह प्रदर्शनी में प्रदेश में चौंथी बार है, जिसमें दो राज्यों मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ से 108 कलाकारों की एक विषय पर आधारित 158 रचनाएं, जल, तैल, पेस्टल से निर्मित रेखांकन प्रदर्शित है। मांगलिक अवसरों पर बनाए जाने वाले गणेश, कृष्ण, शांति और कबूतर, राष्ट्रीय एकता और अखंडता, दीवारों पर साकार की जाने वाली रचनाएं इस प्रदर्शनी में शामिल हैं।
मध्य के प्रदेश जबलपुर, सतना, मैहर, कटनी, रीवां, गाडरवाड़ा, नरसिंहपुर, की रचनाएं और छत्तीसगढ़ के भिलाई, दुर्ग, कवर्धा, रायगढ़, बिलासपुर, खरसिया,सरगुजा राजनांदगांव, कोरबा, आदि शहरों से पेन, स्याही, जलरंग, पेस्टल , चारकोल, कजली, स्केच पेन के माध्यम से रेखांकन रचना का निर्माण किया गया है । लोक कला के रंग जीवन के विभिन्न पहलुओं के साथ रेखाकिंत करती है। राष्ट्रीय एकता, अखंडता, प्रकृति, जीवजंतु, तितली, कीट पतंगें, मोर, हाथी, आदि विषय इस कला प्रदर्शित किया जाएगा। इस प्रदर्शनी छत्तीसगढ़ से वेलगुरू मंडली , जनगणना सिंह, सुजाता देवार, अवतार सिंह भंगल , डॉ.प्रवीण शर्मा , उमेश चोपकर, असीम प्रताप हिरवानी, चंद्रकांत साहू, तरूण वंशपाल , नीता परमार, मुत्युजंय आदि कलाकारों की रचनाएं प्रदर्शित है। महाकोशल कला वीथिका में आयोजित इस प्रदर्शनी में 58 कलाकारों के 58 चित्र जो जल, तैल, पेस्टल, चारकोल , स्याही , एक्रेलिक, माध्यम से निर्मित रचनाओं को शामिल की गई है। प्रदर्शनी दर्शकों के लिए नि:शुल्क सुबह 10 से 12 बजे तक 9 दिसंबर तक और 8 दिसंबर को शाम 5 से 7 बजे तक खुली रहेगी।

Source: 
visionnewsservice.in

Related News