प्रदेश की लोक संस्कृति को पहचान दिलाने में अर्जुंदा का महत्वपूर्ण योगदान : डॉ. रमन

प्रदेश की लोक संस्कृति को पहचान दिलाने में अर्जुंदा का महत्वपूर्ण योगदान : डॉ. रमन

अर्जुंदा गांव की अपनी विशिष्ट पहचान है। इस गांव ने छत्तीसगढ़ की लोक संस्कृति को पहचान दिलाने में महत्वपूर्ण योगदान दिया है। इस क्षेत्र के कण-कण में छत्तीसगढ़ की लोक कला का वास है। मुख्यमंत्री आज प्रदेशव्यापी विकास यात्रा के दौरान बालोद जिले के ग्राम अर्जुंदा (विकासखण्ड-गुण्डरदेही) में आयोजित विशाल आम सभा को संबोधित कर रहे थे।
मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कहा कि, बालोद जिले के गठन से इस क्षेत्र के विकास को नई ऊंचाईयां मिली हैं। आम जनता की सुविधा के लिए यहां नया कलेक्टोरेट भवन बना और विभिन्न विभागों के कार्यालय प्रारंभ हुए, क्षेत्र की जनता को नया जिला अस्पताल मिला। नया जिला बनने के बाद यहां विकास के कई बड़े काम पूरे हुए हैं। डॉ. सिंह ने आमसभा में जिले की जनता को 74.94 करोड़ रुपए की लागत के 74 विभिन्न निर्माण कार्यों की सौगात दी। उन्होंने इनमें से 25.57 करोड़ रुपए की लागत के 40 निर्माण कार्यों का लोकार्पण और 49.37 करोड़ रुपए के 34 निर्माण कार्यों का शिलान्यास किया।
मुख्यमंत्री ने एक लाख 70 हजार 875 हितग्राहियों को विभिन्न योजनाओं में सामग्री और सहायता राशि के चेक वितरित किए। उन्होंने कम्प्यूटर में क्लिक कर जिले के लगभग 92 हजार 414 किसानों को उनके खाते में 115 करोड़ 27 लाख रुपए के धान बोनस की राशि का भुगतान किया। डॉ.सिंह ने कार्यक्रम में 70 हजार 389 गरीब परिवारों को आबादी पट्टा, श्रम विभाग की योजना में 2600 श्रमिकों को साइकिल, सिलाई मशीन, 3000 श्रमिक औजार, और सुरक्षा उपकरण, प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना में दो हजार महिलाओं को रसोई गैस कनेक्शन वितरित किए।
मुख्यमंत्री ने कहा कि, जल्द ही गांव-गांव में इंटरनेट कनेक्टिविटी मिलेगी और मनरेगा में काम करने वाले मजदूरों, खेतों में काम करने वाली महिलाओं, कॉलेज के विद्यार्थियों, किसानों और ग्रामीणों के हाथ में जल्द ही स्मार्ट फोन होगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि, सूचना क्रांति योजना के अंतर्गत पूरे प्रदेश में 55 लाख स्मार्ट फोन नि:शुल्क बांटे जाएंगें। इसके लिए रजिस्ट्रेशन शुरू कर दिया गया है।
इंटरनेट कनेक्टिविटी देने के लिए भारत नेट परियोजना के अंतर्गत लगभग 3000 करोड़ रुपए की लागत से 3600 किलोमीटर ऑप्टिकल केबल बिछाने का काम प्रारंभ कर दिया गया है। मोबाईल कनेक्टिविटी के लिए गांव-गांव में टॉवर लगाये जाएंगें। डॉ. सिंह ने कहा कि, आयुष्मान भारत योजना के अंतर्गत प्रदेश के 37 लाख परिवारों को 5 लाख रुपए तक के इलाज की सुविधा मिलेगी। इस राशि से गरीब परिवारों के लिए दिल, लिवर, किडनी और कैंसर जैसी गंभीर बीमारियों का इलाज कराना आसान होगा।
मुख्यमंत्री ने कहा कि, राज्य शासन ने मुख्यमंत्री खाद्यान्न सहायता योजना के तहत गरीब परिवारों के भरपेट भोजन और मुख्यमंत्री स्वास्थ्य सुरक्षा योजना के माध्यम से इन परिवारों के 50 हजार रुपए तक के नि:शुल्क इलाज की व्यवस्था की है। उन्होंने बताया कि, प्रधानमंत्री आवास योजना के अंतर्गत प्रदेश में छ: लाख 40 हजार मकानों का निर्माण किया जाएगा और प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना में 35 लाख रसोई गैस कनेक्शन वितरित किए जाएंगें। बालोद जिले में अब तक 60 हजार रसोई गैस कनेक्शन बांटे गए हैं यह जिला प्रधानमंत्री आवास योजना के क्रियान्वयन में भी अग्रणी है। मुख्यमंत्री ने ग्रामीणों से शासन की योजना से अधिक से अधिक संख्या में जुड़कर योजना का लाभ उठाने का आग्रह किया। उन्होंने कहा कि, पिछले 15 वर्षो में उन्हें जनता का भरपूर सहयोग, समर्थन और आशीर्वाद मिला है। आने वाले 5 वर्षो में प्रदेश की विकास की गति और भी अधिक तेज होगी।
कृषि मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने सभा को संबोधित करते हुए कहा कि, मुख्यमंत्री भीषण गर्मी में आम जनता से मिलने और जनता को विकास की योजनाओं से जोडऩे के लिए निकले हैं। उन्होंने कहा कि, राज्य सरकार ने गरीबों को भूख से मुक्ति दिलाई है, गांव-गांव में सड़क, बिजली, पानी और शिक्षा की व्यवस्था की गई है। किसानों के लिए अनेक योजनाएं प्रारंभ की गई है। लोकसभा सांसद विक्रम उसेण्डी ने भी आम सभा को संबोधित किया।
मुख्यमंत्री ने बालोद में जिन निर्माण कार्यों का लोकार्पण किया, उसमें 16.71 करोड़ रुपए लागत से खरखरा स्पील चैनल में शूटफॉल निर्माण, एक करोड़ 94 लाख रुपए लागत सेे आई.टी.आई भवन. डौण्डीलोहारा में 50 सीटर कन्या छात्रावास, एक करोड़ 92 लाख रुपए की लागत से ग्राम फिरतुटोला (जुन्नपानी) में विद्युत उपकेंद्र शामिल हैं। उन्होंने एक करोड़ 40 लाख रुपए लागत के शासकीय महाविद्यालय अर्जुन्दा में अतिरिक्त कक्ष का निर्माण, एक करोड़ 17 लाख रुपए लागत से सड़क निर्माण मेनरोड से चिखली मार्ग और 62.55 लाख रुपए लागत से चौदह गॉवों में स्वच्छ पेयजल प्रदाय के लिे सोलर हैण्डपम्पों का लोकार्पण भी किया।
डॉ. सिंह जिन निर्माण कार्यों का शिलान्यास किया, उसमें लगभग 21 करोड़़ रुपए लागत से ग्राम कुथरेल-भाठागॉव-औरी-परसाही तक बनने वाली सड़क, तीन करोड़ 80 लाख रुपए लागत से अछोली से संजारी मार्ग पर बनने वाले पुल, दो करोड़ 46 लाख रुपए लागत से चौरेल से मोहलाई मार्ग पर पुल निर्माण, दो करोड़ 41 लाख रुपए लागत से भिलाई से तिलखैरी मार्ग पर पुल निर्माण और दो करोड़ 32 लाख रुपए लागत से मेन रोड से मोंगरी मार्ग पर पुल निर्माण के कार्य शामिल हैं।
आमसभा मेंविधायक राजेन्द्र राय, बीस सूत्रीय कार्यक्रम क्रियान्वयन समिति के उपाध्यक्ष खूबचंद पारख, पूर्व विधायक वीरेन्द्र साहू, प्रीतम साहू, लाल महेन्द्र सिंह टेकाम और कुमारी बाई साहू सहित अनेक जनप्रतिनिधि, वरिष्ठ अधिकारी और बड़ी संख्या में ग्रामीण उपस्थित थे।

Source: 
visionnewsservice.in

Related News