बच्चों को बताया गया गुड टच व बेड टच में फर्क

बच्चों को बताया गया गुड टच व बेड टच में फर्क

जिला मुख्यालय में संचालित शासकीय विद्यालय में बच्चों की देखरेख और संरक्षण अधिनियम के तहत किशोर न्याय और लैंगिक अपराध के संबंध में जानकारी दी गई। इस कार्यक्रम में बच्चों को गुड टच और बैड टच के फर्क को बताते हुए किसी भी अप्रिय स्थिति से सचेत रहने की सलाह दी गई।
बाल संरक्षण अधिकारी राहुल कौशिक ने बच्चों को बताया कि जिन पर विश्वास हो उनके छुने पर वे गुड टच माने और जिनके छुने पर अच्छा न लगता हो या अप्रिय स्थिति लगती हो उसे बैड टच माने। वर्तमान में ज्वलंत समस्या ब्लू व्हेल गेम जो मोबाईल में खेला जाता है उससे होने वाले मानसिक व खतरनाक दुष्परिणाम के बारे बच्चों को विस्तार पूर्वक जानकारी दी गई। गुमशुदा शिक्षक अधिकार अनैतिक मानव व्यापार और बाल भिक्षा वृत्ति की जानकारी के साथ चाईल्ड हेल्प लाई नम्बर 1098 की जानकारी बच्चों को बताई गई।
कार्यक्रम के दौरान प्राचार्य राजरानी पामभोई, व्याख्यता पंचायत बी ठक्कर, पुरूषोत्तम चन्द्राकर, जिला बाल संरक्षण अधिकारी राहुल कौशिक, परामर्श दाता मुकेश शर्मा, सामाजिक कार्यकर्ता संदीम चिडेम, आउटरिच वर्कर फणेन्द्र जैस्वाल सहित विद्यालय के शिक्षक शिक्षिकाएं व छात्र-छात्राएं उपस्थित थे।

Source: 
Vision News Service

Related News