बीएसपी कर्मियों के खाते में जमा हुई बोनस की राशि

बीएसपी कर्मियों के बैंक खाते में बोनस राशि गुरुवार को जमा करा दी गई। इससे कर्मियों ने राहत की सांस ली है। हालांकि बीते तीन साल से लगातार मिल रही कम राशि की वजह से कर्मियों में अब पहले जैसा उल्लास नहीं है। लेकिन कंपनी की हालत को देखते हुए कर्मी उम्मीद कर रहे हैं कि मुनाफे की हालत में आने के बाद बोनस राशि निश्चित तौर पर बढ़ेगी।
इस बार 26 सितंबर को नई दिल्ली में हुई बोनस बैठक में कर्मियों को 11 हजार और प्रशिक्षुओं को 9 हजार रुपए देना तय हुआ। इसी के अनुसार कर्मियों के खाते में राशि जमा करा दी गई है। बोनस की राशि को लेकर कर्मियों के एक वर्ग में असंतोष का भी माहौल है। इन लोगों का कहना है कि प्रशिक्षु कंधे से कंधा मिलाकर काम करते है और समान कार्य के लिए समान भुुगतान होना ही चाहिए। डिप्लोमा इंजीनियर के संगठन सचिव अखिल मिश्रा का कहना है कि नई ज्वाइनिंग वाले कर्मियों पर एनजेसीएस के फैसले हमेशा भारी पड़ते रहे है। पूर्व में गे्रच्युटी के मामले में 2014 के बाद ज्वाइन करने वालों को नुकसान उठाना पड़ा था। अब जबकि प्रशिक्षुओं को नियमित कर्मियों के समान माना जा रहा है। ऐसे में बोनस के मामले में भेदभाव गलत है।
बोनस की राशि गुरुवार को बीएसपी कर्मियों के खाते में आने के साथ ही बाजार में हलचल बढ़ी है। ज्यादातर कर्मी इस राशि का इस्तेमाल इलेक्ट्रॉनिक आइटम लेने में पहली किश्त के तौर पर खर्च कर रहे हैं। कर्मियों का कहना है कि इस राशि में बड़ी खरीददारी नहीं की जा सकती है लेकिन जितना मिला है, उससे थोड़ी राहत मिली है।

Source: 
Vision News Service

Related News