बीएसपी के रवैये के विरोध में एकजुट हुए व्यापारी

भिलाई स्टील सिटी चेम्बर्स ऑफ कामर्स के बेनर तले बुधवार को टाउनशिप के व्यापारियों ने अपने चार सूत्रीय मांगों को लेकर ज्ञापन सौंपा। सभी व्यापारी ने अपनी दुकाने बंद कर एकजुट होकर भिलाई इस्पात संयंत्र के रवैया के विरोध में आमसभा कर रैली निकाली। रैली में सभी व्यापारी कन्ट्रोल रूम पहुंचेकर अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक शशिमोहन सिंह को कलेक्टर के नाम ज्ञापन सौँपा।
इस संबंध में भिलाई स्टील सिटी चेम्बर्स ऑफ कामर्स भिलाई के अध्यक्ष ज्ञानचंद जैन और महासचिव दिनेश सिंघल ने संयुक्त रूप से इस मामले में कहा कि बीएसपी प्रशासन मूकदर्शक बना हुआ है और वादा खिलाफी कर रहा है। बीएसपी प्रबंधन को हमने दस दिन का अल्टीमेटम दिया है। यदि दस दिनों में हमारी मांगों पर निर्णय नही किया जाता है तो सभी व्यापारी अनिश्चितकालीन दुकानों को बंद कर देंगे जिसकी पूरी जिम्मेदारी बीएसपी प्रशासन की होगी। जब उनकी दुकानों को लीज में जमीन का टुकड़ दिया गया था तो उस समय हमसे 6 हजार रुपए लिया गया था और आज लीज समाप्त होने पर लीज नवीनीकरण के लिए बीएसपी प्रबंधन की ओर से 20 लाख रुपए मांगा जा रहा है। ये कैसा तुगलकी निर्णय है। इतनी राशि तो विकास प्राधिकरण और नगर निगम भी नही ले रही है, जितनी राशि बीएसपी मांग रही है। केबिनेट मंत्री की ओर से लिए गए निर्णय पर अमल नही करते हुए इसके लिए लगातार बीएसपी प्रबंधन नोटिस देकर सभी व्यापरियों को प्रताडि़त कर रही है। इस बार हमकों दवा विक्रेता संघ ने भी अपना समर्थन दिया है लेकिन इंसानियत के नाते भिलाई इस्पात संयंत्र का मुख्य चिकित्सालय सेक्टर 9 के बाहर स्थित मनोहर मेडिकल व अंबे मेडिकल को खुला रखा गया हेै, ताकि मरीजों के दवाई के लिए उनके परिजनों को भटकना न पड़े।
बाक्स में
00 बीएसपी प्रबंधन मंत्री के निर्णय को भी नही मानती : एंथोनी
कांगे्रस नेता और पूर्व पार्षद सीजू एंथोनी ने सभा स्थल पहुंचकर अपना और कांग्रेस पार्टी का समर्थन दिया । उन्होंने कहा कि नगर सेवा विभाग के जी एम को खाली ज्ञापन देने से कुछ नही होगा अब व्यापारी एकजुट हो गए हैं। अब सीधे सीईओं निवास का घेराव किया जाएगा। टाउनशिप के व्यापारियों के लीज नवीनीकरण के मामले में स्थानीय विधायक और मंत्री प्रेमप्रकाश पाण्डेय ने भी प्रयास तो जरूर किया लेकिन बीएसपी प्रबंधन मंत्री के निर्णय को नही मानते है। व्यापारी पूरी ताकत से अपनी लड़ाई लडेंगे जिसमें कांग्रेस उनके साथ खड़ी है। बीएसपी प्रबंधन ने ज्ञानचंद जैन सहित कई व्यापारियों को डराने और धमकाने का प्रयास किया और उनसे भारी मात्रा में पेैनल दर भी वसूल रही है, जिसे अब बर्दाश्त नही किया जाएगा।

Source: 
Vision News Service

Related News