मजदूरी के लिए भटक रहे श्रमिक

उसूर ब्लॉक के पंचायतों में बीते वर्ष कराए गए कामों का मजदूरी भुगतान आज पर्यन्त तक नहीं हो सका है। मजदूरी भुगतान नहीं होने से अब पंचायतों के कामों से मजदूर परहेज कर पड़ोसी राज्यों में काम करने जा रहे हैं।
बताया गया है कि उसूर ब्लाक के तिम्मपुर, फुतकेल, हीरापुर, यंगपल्ली, असूर, गलगम व संकनपल्ली में वर्ष 2017-18 में मनरेगा के तहत किए गए तालाब, गायशेड, डबरी, बोल्डर चेकडेम के काम का मेहनताना मजदूरों का अब तक नसीब नहीं हो सका है। दरअसल इसके पीछे की वजह एसबीआई आवापल्ली द्वारा पंचायतों को नगद भुगतान नहीं किया जाना है। बताया गया है कि इन नौ पंचायतों के करीब ढाई हजार मजदूरों का करीब 23 लाख रुपए मजदूरी भुगतान लंबित है और इन सभी पंचायतों में नगद भुगतान किए जाने का प्रावधान है। इसके बाद भी एसबीआई आवापल्ली शाखा ने नगद भुगतान नहीं किया है। भुगतान के अभाव में यहां के मजदूर काम के लिए अन्यत्र पलायन करने को मजबूर हैं। ऐसा नहीं है कि इसकी जानकारी जिला प्रशासन को नहीं है। बावजूद भुगतान को लेकर अब तक कोई सार्थक पहल भी प्रशासन की ओर से नहीं की गई है। इस संबंध में सीईओ जनपद पंचायत असूर बी गौतम का कहना है कि कई बार बैंक अधिकारियों से भुगतान के बारे में कहा गया है। लेकिन बैंक मैनेजर पांच हजार से ज्यादा के नगद देने से इंकार कर रहे हैं। श्री गौतम के मुताबिक उन्होंने इस बात की जानकारी समय सीमा की बैठक में कलेक्टर व सीईओ जिला पंचायत को भी दी है। इधर आवापपल्ली एसबीआई के ब्रांच मैनेजर पुष्पराज सिंह से संपर्क करने पर उन्होंने कहा कि वे अभी बाहर हैं और वैसे भी वे मीडिया से बात करने के लिए अधिकृत नहीं हैं।

Source: 
visionnewsservice.in

Related News