महिलाओं की बेबसी, 5 किलोमीटर दूर जाकर पानी लाने को मजबूर महिलाएं

महिलाओं की बेबसी, 5 किलोमीटर दूर जाकर पानी लाने को मजबूर महिलाएं

एक तरफ तो रमन सरकार पानी बचाने के लिए कई योजनाएं चला रही हैं, वहीं दूसरी तरफ मुंगेली जिला मुख्यालय से सटे धनगांव में पेयजल की भारी समस्या है.
आधे से ज्यादा हैंडपंप खराब

धनगांव में पीएचई विभाग ने जो हैंडपंप लगाए थे, उनमें से आधे से ज्यादा हैंडपंप खराब हैं, वहीं जो हैंडपंप चालू भी हैं, उनमें से गंदा पानी निकल रहा है, जो पीने के लायक नहीं है. इसके कारण गांव के लोगों को तालाब से निस्तारी करनी पड़ रही है.
गंदा पानी पीकर लोग हो रहे हैं बीमार

इधर तालाब का पानी भी पीने लायक नहीं है. ऐसे में लोग बीमारियों की चपेट में आ रहे हैं. जिसके बाद परेशान गांववाले दूसरे गांवों में जाकर पानी लाने को मजबूर हो रहे हैं. खासतौर पर महिलाओं को 5 किलोमीटर पैदल चलकर पानी लाने में भारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है.

घटिया क्वॉलिटी का आरओ फिल्टर बना मुसीबत

वहीं पीएचई विभाग ने गांववालों की समस्या को देखते हुए यहां 8 लाख 50 हजार रुपए की लागत से RO फिल्टर भी लगाया था, लेकिन घटिया क्वॉलिटी का ये फिल्टर पिछले 2 महीनों से खराब पड़ा है.

गांववालों का कहना है कि उन्होंने कलेक्टर समेत सभी आला अधिकारियों को अपनी परेशानी बताई है, लेकिन इसका कोई नतीजा नहीं निकला. विभाग की अनदेखी से ग्रामीणों में भारी आक्रोश है. उनका कहना है कि प्रशासनिक अधिकारियों की लापरवाही के चलते वे नारकीय जीवन जीने को मजबूर हैं.
इधर पीएचई विभाग के अधिकारी एम के मिश्रा ने गांववालों की समस्या को जल्द दूर करने का आश्वासन दिया है.

Source: 
Vision News Service

Related News