मांग पत्र पर कार्रवाई नहीं होने से नराईबोध के भूविस्थापितों में नाराजगी

ग्राम नराईबोध के विस्थापित होने वाले ग्रामीणों ने एक माह बीतने के बाद भी प्रबंधन की ओर से कार्रवाई नहीं होने पर नाराजगी व्यक्त करते हुए गेवरा परियोजना के भू-राजस्व अधिकारी से मुलाकात कीे। उन्होंने गांव में शिविर कार्यक्रम कर किसानों की समस्याओं का निराकरण करने की मांग की है।
इनकी प्रमुख मांग गांव में शिविर लगाकर दस्तावेज में त्रुटियों का सुधार, विस्थापन से पूर्व पुनर्वास और छोटे खातेदारों को वैकल्पिक रोजगार सहित अन्य मांगों का निराकरण कराना है। प्रबन्धन ने एक माह पहले ज्ञापन लेते हुए कहा था कि तत्काल राजस्व विभाग के साथ गांव में शिविर का कार्यक्रम किया जाएगा लेकिन उदासीन होने पर ग्रामीण पुन: अपनी मांग को लेकर मिलने गए थे। इस दौरान ग्राम नराईबोध के रूद्र दास, सहेंद्र दास, जगत राम यादव, उदय दास, समार साय चौहान, जगदीश पटेल, मनहरण चौहान, बुधवार साय यादव, प्रेमलाल धोबी, जय नारायण कौशिक, फूल दास टेलर्स,जगेश्वर राठौर, समारू दास,गिरधारी यादव,द्वारिका दास, दुलार साय,सुन्दर साय,श्याम सुन्दर, राजेंद्र यादव, बुधवार चौहान, फूलदास,रामायण सिंह कंवर, हेमलाल यादव, बुधवार साय यादव, फिरनलाल, अजय कुमार, अलखराम सहित बड़ी संख्या में ग्रामीण मौजूद थे ।

Source: 
visionnewsservice.in

Related News