मामूली दर पर किसानों के खेतों में लग रहे हैं सोलर सिंचाई पंप

सौर सुजला योजना के तहत मामूली दर पर किसानों के खेतों में सोलर सिंचाई पंप लगाया जा रहा है। इससे किसानों के खेतों में विभिन्न प्रकार की फसलें लहलहा रही हैं और किसान बिजली की चिंता से मुक्त होकर खुशहाल जीवन व्यतीत कर रहे हैं।
कलेक्टर नरेन्द्र कुमार दुग्गा ने कहा कि, वर्ष 2016-17 में 224 किसानों के खेतों में सोलर सिंचाई पंप की स्थापना की गई है। इसी तरह वर्ष 2017-18 में 700 किसानों के खेतों में सोलर सिंचाई पंप की स्थापना की जा रही है।
कलेक्टर ने जानकारी दी कि, अब किसानों के खेतों में 1 एच.पी. से 5 एच.पी. तक के सोलर सिंचाई पंप लगाए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि, पौने दो लाख रुपए की अधिक लागत की 1 एच.पी की सोलर सिंचाई पंप अनुसूचित जाति, जनजाति के किसानों को मात्र 3 हजार 500 रुपए अन्य पिछडा वर्ग के किसानों को मात्र 6 हजार रुपए और सामान्य वर्ग के किसानों को मात्र 14 हजार रुपए के अंशदान पर सिंचाई के लिए लगाये जा रहे हैं।
कलेक्टर ने कहा कि, 1 एच.पी की सोलर सिंचाई पंप के लिए इन सभी वर्ग के किसानों को मात्र 1 हजार 200 रुपए की प्रोसेसिंग शुल्क देना होगा। इसी तरह सवा दो लाख रुपए से अधिक की लागत की 2 एचपी की सोलर सिंचाई पंप अनुसूचित जाति, जनजाति के किसानों को मात्र 5 हजार रुपए अन्य पिछडा वर्ग के किसानों को मात्र 9 हजार रुपए और सामान्य वर्ग के किसानों को मात्र 16 हजार रुपए के अंशदान पर उनके खेतों में सिंचाई के लिए लगाए जा रहे हैं। उन्होने कहा कि, 2 एच.पी की सोलर सिंचाई पंप के लिए इन सभी वर्ग के किसानों को मात्र 1 हजार 800 रुपए की प्रोसेसिंग शुल्क देनी होगा।
इसी तरह सवा तीन लाख रुपए से अधिक की लागत की 3 एच.पी की सोलर सिंचाई पंप अनुसूचित जाति, जनजाति के किसानों को मात्र 7 हजार रुपए, अन्य पिछडा वर्ग के किसानों को मात्र 12 हजार रुपए और सामान्य वर्ग के किसानों को मात्र 18 हजार रुपए के अंशदान पर उनके खेतों में सिंचाई के लिए लगाए जा रहे हैं।

Source: 
Vision News Service

Related News