मुआवजे की मांग को लेकर शव लेने से किया इंकार

 मुआवजे की मांग को लेकर शव लेने से किया इंकार

बीएसपी के ब्लास्ट फर्नेस-7 में दो महीने तक कैपिटल रिपेयर के बाद उत्पादन शुरू होने के सप्ताहभर के भीतर बुधवार की रात हादसा हो गया। हादसे में 10 टन वजनी क्रेन के 30 फीच नीचे गिरने से ठेका श्रमिक महेश साहू (40) निवासी पतौरा की मौके पर मौत हो गई। इस मामले में घटना के लिए ठेकेदार को जिम्मेदार मानते हुए उचित मुआवजे की मांग को लेकर परिजनों ने शव को लेने से इंकार कर दिया। साथ ही मांग के समर्थन में ग्राम पतौरा में आंदोलन करने की चेतावनी भी दी।
00 कैसे हुआ हादसा :
ब्लास्ट फर्नेस 7 में कैपिटल रिपेयर चार साल के रुका था। बीएसपी प्रबंधन ने दो महीने पहले इस काम को शुरू करने का फैसला लिया। दो महीने तक के चले कैपिटल रिपेयर के बाद पांच दिन पहले फर्नेस-7 से उत्पादन दोबारा शुरू हुआ। सप्ताहभर में ही कैपिटल रिपेयर में लापरवाही दिखने लगी है। एचएससीएल की हैवी मेंटेनेंस इलेक्ट्रिकल विभाग की टीम बुधवार की रात करीब 11.20 बजे मोटर रूम में मोटर अलायमेंट का काम कर रही थी। इस दौरान मोटर को उपर उठाने के लिए ठेका श्रमिक महेश वर्मा ने लोहे की चेन से मोटर को क्रेन से जोड़ा। मोटर को उठाने के दौरान जोरदार आवाज के साथ क्रेन नीचे गिर गया जिसमें दबने से मजदूर की घटना स्थल पर ही मौत हो गई। इंटक ने मृतक के परिजन को 7 लाख रुपए मुआवजा व आश्रित को प्लांट में नौकरी देने की मांग की है। थाने में सीटू ठेका श्रमिक प्रकोष्ठ के योगेश सोनी ने घटना के लिए ठेकेदार बीबी सिंह, एचएससीएल और बीएसपी प्रबंधन को जिम्मेदार बताते हुए उनके खिलाफ जुर्म दर्ज करने लिखित आवेदन किया। सीटू नेताओं के साथ थाने पहुंचकर दिए गए आवेदन में मृत ठेका श्रमिक महेश के भाई राजाराम साहू और राजकुमार साहू ने इस घटना के लिए बीएसपी के सुरक्षा अधिकारी एचएमई मनमोहन सिंह यादव, ब्लास्ट फर्नेस इलेक्ट्रिकल विभाग के डिप्टी मैनेजर भावेश, ठेकेदार वीर बहादुर सिंह वीबी इंटरप्राइजेस और एचएससीएल प्रबंधन के खिलाफ अपराध दर्ज करने की मांग की है।

Source: 
Vision News Service

Related News