युवक की हत्या, पांच आरोपियोंं को जेल

युवक की हत्या, पांच आरोपियोंं को जेल

सरकंडा थाना में गुम दर्ज युवक की हत्या के मामले में पुलिस ने खुलासा करते हुये बताया कि मृतक पुत्र का बदला लेने सौतेली मां ने कराई थी हत्या। पुलिस ने सभी आरोपियों को गिरफ्तार कर न्यायिक रिमांड में जेल भेज दिया।
इस घटना के संबंध में पुलिस से मिली जानकारी अनुसार सरकंडा थाना में दर्ज गुम इंसान का मामला हत्या का निकला। जिसमें पांच आरोपी को अमने थाना कोटा से गिरफ्तार किया गया है। पुलिस ने मृतक का शव भी बरामद कर घटना में प्रयुक्त कार, मोबाइल फोन आदि सामान जब्त कर लिया है। बेबी मांडले और बालाराम दोनों ग्राम अमने के रहने वाले हैं। दोनों की शादी हुई थी जिनके तीन लड़के क्रमश: योगेश मांडले, नीलेश मांडले एवं अभिषेक मांडले थे। बेबी मांडले अपोलो अस्पताल बिलासपुर में काम करती है तथा डीपूपारा तारबाहर में मकान बनाकर रहती है। करीब पांच वर्ष पूर्व से वह शांतनु रातड़े जो मृतक का पिता है से दूसरी शादी कर पति बनाकर रहती थी। सितंबर माह 2018 में उसके मझले पुत्र नीलेश का शव संदिग्ध हालत में कोटा अटल आवस कुवारीमुड़ा के पास मिला था, जिसमें कोटा में मर्ग कायम कर पुलिस की ओर से जांच की जा रही थी किंतु बेबी मांडले एवं बालाराम को यह संदेह था कि उसके पुत्र नीलेश की हत्या उसके वर्तमान पति शांतनु एवं तरुण ने ही की है और इसी संदेह के आधार पर बेबी मांडले एवं शांतनु रातड़े के मध्य विवाद हुआ जिसके कारण शांतुन रातड़े के पुत्र तरुण रातड़े की हत्या करने की योजना बनाई । योजना के तहत करीब दो माह पूर्व मेघा गोयल निवासी अटल आवास लिंगियाडीह से एक फर्जी सिम तरुण से मोबाइल फोन से बात कर दोस्ती की, फिर लगातार उससे मोबाइल पर बात करने लगी तथा करीब एक माह पूर्व क्लोरोफार्म खरीद कर बेबी मांडले के पास रखवा दी थी और कुछ दिन पूर्व ही राजकिशोर नगर में घटना को अंजाम देने के लिये एक किराये का मकान लेकर रखा।
योजना के मुताबिक 01.01.2019 को मेघा गोयल ने तरुण रातड़े को स्मृति वन के पास नया साल में मिलने के बहाने बुलाई जब तरुण अपनी मोटर सायकल में मिलने के लिये गया तो मेधा उसे बोली की पास में ही उसके दोस्त का एक घर है वहां चलकर मिलते हैं कह कर राजकिशोर नगर स्थित किराये के मकान में लेकर गई। वहां पूर्व से बेबी मांडले अंदर छिपी हुई थी तथा बालाराम एवं योगेश एवं अभिषेक घर के बाहर कार में छिपे थे। मेघा पहले से काफी नींद की गोली मिलाकर तरुण को पिलाकर बातचीत करती रही लेकिन उसे नींद नहीं आया तो फिर अंदर कमरे में बुलाई तो बाहर छिपे बालाराम योगेश तथा अभिषेक अंदर कमरे में आ गये और बेबी के साथ मिलकर सभी तरुण के हाथ पैर तथा गर्दन को रस्सी से बांधे तथा क्लोरोफाम को सुंघाने के बाद तरुण के मुंह में गमछा तथा अस्पताली बेन्डेड को बांधे, गर्दन को रस्सी से कसकर बांधने पर उसकी मृत्यु हो गई। जहां से तरुण के शव को कार क्रमांक सीजी-10 जेडडी 1631 के पिछला सीट में भरकर अपने ले गये जहां रास्ते में तरुण तथा मेधा केे मोबाइल के सिम को तोड़कर मोपका बायपास के पास फेंक दिया तथा उसके मोटर सायकल को कोनी के पास छोड़ दिया। शव को अमने स्थित अपने कृषि प्लाट जहां पूर्व से ही मेड़ में गड्डा खोदकर रखे थे उसमें लेकर दफना दिये, दफनाने के बाद बेबी और योगेश मांडले अपने घर डीपूपारा तारबाहर आ गये तथा बालाराम एवं अभिषेक मांडले अमने में ही रुक गये थे।
बेबी मांडले एवं बालाराम के कथनानुसार अन्य आरोपी योगेश एवं अभिषेक मांडले तथा मेघा गोयल को पुलिस पकड़कर पृथक-पृथक पूछताछ की, जिसने अपराध करना स्वीकार किया। आरोपियों के बताये अनुसार गुम इंसान तरुण रातड़े के शव को पुलिस ने अपने स्थित बालाराम मांडले के कृषि प्लाट से विधिवत कार्यवाही करते हुये बरामद किया गया है तथा मृतक की मोटर सायकल एवं मोबाइल फोन एवं सिम तथा मेधा ने जिस मोबाइल एवं सिम का उपयोग कर मृतक को बुलाया गया था, वह सिम एवं मृतक के जूते एवं बेंडेड की चकरी को मोपका सेंदरी बाईपास रोड से बरामद कर लिया गया है तथा घटना में प्रयुक्त मारुति 800 कार क्रमांक सीजी-10 जेडडी 1631 भी जब्त किया गया है। प्रकरण के सभी आरोपियों को गिरफ्तार कर न्यायिक रिमांड पर भेजा जाना है।
नाम आरोपी
बेबी मांडले पति बालाराम मांडले उम्र 40 वर्ष निवासी अमने थाना कोटा हाल मुकाम डीपूपारा तारबाहर, बालाराम मांडले पिता सहस राम मांडले उम्र 46 वर्ष निवासी अमने थाना कोटा, योगेश मांडले पिता बालाराम उम्र 25 वर्ष निवासी डीपूपारा तारबाहर, अभिषेक मांडले पिता बालाराम निवासी डीपूपारा कु. मेघा पिता मोहन गोयल उम्र 19 वर्ष, अटल आवास लिंगियाडीह सरकंडा।

Source: 
visionnewsservice.in

Related News