यूनिफॉर्म बदलने गया छात्र हुआ गायब, शाम को मिला

शांतिनगर स्थित मार्क ब्लेसियस स्कूल के सातवीं का छात्र अभिषेक सिंह बुधवार को ड्रेस पहनकर नहीं आया था। शिक्षक ने ड्रेस पहनकर आने को कहा, घर नहीं गया और गायब हो गया, शाम को मिला। ड्रेस न पहनने की वजह से टीचर ने उसे घर से ड्रेस पहनकर आने की बात कही तो छात्र घर पर मम्मी की डांट न खाना पड़ेगा, इसलिए घर जाने के बजाय वह ग्राउंड में जाकर बैठ गया। छात्र के अचानक गायब होने से परिजन और वैशाली नगर पुलिस पूरे दिन छात्र की तलाश में भटकती रही। शाम को छात्र घर जा रहा था तो उसके क्लास टीचर की नजर पड़ी तो उसने इसकी सूचना पुलिस को दी। वैशाली नगर पुलिस छात्र को ले जाकर परिजनों के हवाले किया। शहर में छात्र के अचानक गायब होने की चर्चा पूरे दिन होती रही।
कैलाश नगर एकता चौक निवासी गुरमीत सिंह और रितु कौर ने बताया कि उनका 12 साल का पुत्र अभिषेक सिंह मार्क ब्लेसियस स्कूल में कक्षा सातवीं का छात्र है। रोजाना वह प्राइवेट ऑटो से स्कूल आता-जाता है। रोज की तरह बुधवार को भी वह सुबह साढ़े छ: बजे ऑटो से स्कूल गया था। लेकिन 9 बजे उसकी क्लास टीचर का फोन आया कि अभिषेक को स्कूल से घर वापस भेज दिया गया है, क्योंकि वह व्हाइट के बदले गे्र यूनिफार्म पहन कर आया था।
बेटे के साथ किसी अनहोनी से आशंकित रितु कौर ने स्कूल प्रबंधन के इस रवैये को बेहद लापरवाही जनक बताते हुए सवाल किया कि जब अभिषेक को सुबह सात बजे ही स्कूल से भगा दिया गया था, तो उन्हें दो घंटे बाद 9 बजे इसकी जानकारी क्यों दी गई। उन्होंने कहा कि छोटी-छोटी बात पर पालकों को फोन करने वाले स्कूल प्रबंधन ने बच्चे को अकेले घर भेजते समय फोन करना जरूरी नहीं समझा।
मार्क ब्लेसियस विद्या भवन की प्राचार्य जॉली मथाई का कहना है कि अभिषेक से पूछा था कि वह घर से यूनिफार्म बदल कर वापस आ सकता है क्या। उसने कहा कि वह साइकिल से आया है और घर पास में है। इसलिए हमने उसे जाने दिया। लेकिन जब वह नौ बजे तक स्कूल वापस नहीं आया तब उसके पैरेंटस को फोन किया। अगर हमें पता होता कि वह ऑटो से आया है और घर दूर है तो हम उसके पैरेंटस को फोन करके बुलाते।

Source: 
Vision News Service

Related News