योग दिवस के मंच पर भिड़ गए विधायक विमल चोपड़ा और पूर्व मंत्री पूनम चंद्राकर, बवाल के बाद कलेक्टर ने बच्चों को लौटाया

योग दिवस के मंच पर भिड़ गए विधायक विमल चोपड़ा और पूर्व मंत्री पूनम चंद्राकर, बवाल के बाद कलेक्टर ने बच्चों को लौटाया

महामसुंद विधायक पर हुए पुलिस लाठीचार्ज के बाद शुरू हुआ बवाल अब शासकीय कार्यक्रम के मंचों पर भी दिख रहा है. क्योंकि विधायक इस पीड़ा को हर मंच से कहना चाहते हैं फिर चाहे वह कार्यक्रम योग दिवस का ही क्यों न हो. जी हां आज योग दिवस के मौके पर आयोजित कार्यक्रम में विधायक विमल चोपड़ा और भाजपा नेता पूर्व मंत्री पूनम चंद्राकर आपस में भिड़ गए. दोनों के बीच जमकर बहस हुई और योग का कार्यक्रम प्रभावित हो गया.

दरअसल योग कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि पूनम चंद्राकर आमंत्रित थे. जबकि कार्यक्रम की अध्यक्षता विधायक विमल चोपड़ा कर रहे थे. जब विमल चोपड़ा ने योग कार्यक्रम को संबोधित करने के लिए माइक पर बोलना शुरू किया तो उन्होंने मंगलवार की रात पुलिस की ओर से किए गए लाठीचार्ज का जिक्र करना शुरू कर दिया. वे महासमुंद की घटना के लिए प्रशासन और सरकार को जिम्मेदार ठहरा रहे थे. इस पर पूनम चंद्राकर ने विधायक विमल चोपड़ा को टोकते हुआ कहा कि ये योग के कार्यक्रम का है राजनीतिक मंच नहीं. यहां योग के विषय पर बात करिए. यहीं नहीं पूनम चंद्राकर ने ये भी कहा कि कानून का उल्लंघन करोगे तो मार खाओंगे ही. आप विधायक आपके साथ जो हुआ है तो उसे विधानसभा में उठाइए. लेकिन विधायक अपनी बात को दोहराने की कोशिश करते रहे. मंच के नीचे फिर हंगामा शुरू होने लगा. भाजपा समर्थकों ने विधायक विमल चोपड़ा के खिलाफ मुर्दाबाद के नारे लगाने शुरू कर दिए. कार्यक्रम में बवाल बढ़ते कलेक्टर ने स्थिति को संभालने की कोशिश की, लेकिन दोनों ही नेताओं की बीच विवाद जारी रहा . आखिरकार कलेक्टर ने सभी शिक्षकों से बच्चों को वापस ले जाने को कह दिया.

Source: 
visionnewsservice.in

Related News