रस्सी से गला घोटकर सौतेली मां की कर दी हत्या

रस्सी से गला घोटकर सौतेली मां की कर दी हत्या

ग्राम धुरकोट में मंगलवार को एक महिला की गला घोटकर की गई हत्या का खुलासा पुलिस ने 24 घंटे के भीतर किया है। पुलिस ने इस मामले में मृतका की सौतेली बेटी को गिरफ्तार किया है।
गुरुवार को इस हत्याकांड का खुलासा करते हुए चंद्रपुर एसडीओपी साधना सिंह ने बताया कि डभरा थाना प्रभारी को आठ जनवरी की शाम करीब छह बजे ग्राम धुरकोट के सरपंच ने मोबाइल से बसंती विश्वास की अज्ञात आरोपी की ओर से घर में घुसकर हत्या करने की सूचना दी थी। थाना प्रभारी तत्काल हमराह स्टॉफ के साथ घटना स्थल पहुंचे और मौका-मुआयना किया। मृतका के शव निरीक्षण पर प्रथम दृष्टया हत्या प्रतीत होने से मौके पर ही मकान मालिक हलधर पटेल पिता मयाराम पटेल की रिपोर्ट पर धारा 302 पंजीबद्ध कर आरोपी की पतासाजी प्रारंभ की गई और वरिष्ठ अधिकारियों को मामले से अवगत कराया गया।
सूचना पर एसपी आरएन दास, एएसपी पंकज चंद्रा, एसडीओपी उदयन बेहार मौके पर पहुंचे। जांच के दौरान पता चला कि मृतका बसंती विश्वास का पति प्रभातचंद्र विश्वास ग्राम धुरकोट में हलधर पटेल के मकान में किराए पर रहकर क्लीनिक चलाता है। आठ जनवरी को 8.30 बजे प्रभातचंद्र अपनी छोटी बेटी आंखी के तलाक के प्रकरण के संबंध में सक्ती न्यायालय गया था। इस दौरान बसंती विश्वास घर पर अकेली थी। इसी दौरान उसकी हत्या कर दी गई।
छानबीन में पता चला कि प्रभात चंद्र की पहली पत्नी से तीन बेटियां हैं, जिनकी शादी हो चुकी है। दूसरी पत्नी बसंती से उसकी शादी वर्ष 2002 में हुई थी। मृतका बसंती विश्वास के पहले पति से दो लड़के और एक लड़की है, जो कोलकाता में रहते हैं। प्रभातचंद्र की बड़ी बेटी की शादी दिल्ली में हुई है। दूसरी बेटी की शादी मालखरौदा तथा तीसरी बेटी की शादी राजस्थान में हुई है। छानबीन के दौरान यह भी पता चला कि प्रभातचंद्र और उसके दामाद का पैसा शेयर बाजार में फंसा हुआ है। प्रभात और बसंती विश्वास ने शेयर बाजार में तीन लाख रुपए लगाए थे तथा क्षिप्रा और दामाद असीम हलधर का छह लाख 60 हजार रुपए लगा था, जो प्रभातचंद्र ने ही दिए थे। इन सभी को शेयर बाजार में घाटा हुआ, जिसके कारण प्रभात और बसंती लगातार रुपए की मांग करके असीम हलधर एवं क्षिप्रा हलधर पर दबाव बना रहे थे, जिससे क्षिप्रा परेशान थी।
इसी वजह से आठ जनवरी को दोपहर 12.30 बजे वह अपनी स्कूटी क्रमांक सीजी 07, एआर 9369 से मालखरौदा से निकली और करीब एक बजे ग्राम धुरकोट पहुंची। इस दौरान बसंती और क्षिप्रा के बीच विवाद हुआ और क्षिप्रा ने अपनी सौतेली मां बसंती के गले में सुतली की रस्सी फंसाकर खींच दी, जिससे उसकी मौत हो गई। आरोपी क्षिप्रा के मेमोरेंडम पर वारदात में प्रयुक्त स्कूटी एवं घटना के समय पहने हुए उसके कपड़े को जब्त किया गया है। साथ ही आरोपी क्षिप्रा को हत्या के आरोप में गिरफ्तार किया गया है।

Source: 
visionnewsservice.in

Related News