रेलवे गेट पर अंडर ब्रिज निर्माण कार्य शुरू, वैकल्पिक रास्ता नहीं

शहर को दो भागों में बाँटने वाले रेलवे गेट पर अंडर ब्रिज निर्माण कार्य शुरू हो गया है। आवागमन की व्यवस्था नहीं होने से जनता में आक्रोश है। भाटापारा नगर पालिका क्षेत्र में 31 वार्ड है तथा बलौदाबाजार जिले में जनसंख्या वाला सबसे बड़ा विधान सभा क्षेत्र है। वर्ष 1900 में नागपुर कोलकाता रेल लाईन बन जाने से शहर दो भागों में बट गया है।
रेलवे लाइन के दोनों तरफ घनी बस्ती के साथ शासकीय व अर्धशासकिय कार्यालय है। भाटापारा बाजार रेलवे गेट पर सभी लोगों की मांग अंडर ब्रिज की थी। शासन ने लोगों के बहुप्रतीक्षित मांग को ध्यान देते हुए बाजार गेट पर अंडर ब्रिज की सहमति दे दी और कार्य भी प्रारंभ हो गया। कार्य प्रारंभ करते हुए बाजार गेट में आवागमन को बन्द करने के लिए गेट के दोनों तरफ लम्बा गड्ढा खोद दिया लेकिन आवागमन के लिए कोई वैकल्पिक अन्य व्यवस्था नहीं करने से लोगों में नाराजगी है।
मोहन केशरवानी अधिवक्ता ने इस गंभीर विषय को ध्यान देते हुए कहा, बाजार गेट के एक तरफ बलौदाबाजार की ओर श्मशान व कब्रिस्तान है। अगर किसी के घर कोई गमी हो जाती है तो कबरिस्तान व श्मशान जाने के लिए बहुत दूर रास्ता तय करना पडेगा। इसे ध्यान देते हुए कुछ व्यवस्था करनी चाहिए।
आप को बता दें कि रेलवे बाजार गेट से बलौदा बाजार के तरफ निजी व शासकीय स्कूल व काॅलेज के साथ साथ एसडीएम कार्यालय, तहसील कार्यालय ,ब्लाक शिक्षा अधिकारी कार्यालय, महिला बाल विकास कार्यालय, ग्रामीण थाना,कस्तुरबा गाॅधी विद्यालय आदि है,तो वहीं रेलवे बाजार गेट के दूसरी तरफ हटरी बाजार ,सदर बाजार ,शहर थाना ,शासकीय सिविल अस्पताल, निजी अस्पताल,बैंक ,नगर पालिका, कृषि उपज मंडी, शासकीय स्कूल, काॅलेज, निजी स्कूल,काॅलेज आदि है, जहां हजारों लोगों का रेलवे बाजार गेट को पार कर आना जाना लगा रहता है।
डाॅ गुप्ता ने कहा कि लोगों को कुछ दिन तकलीफ होगी लेकिन भविष्य के लिए यह अंडर ब्रिज बहुत अच्छा है।
रामचन्द नत्थानी ने कहा कि आस-पास के दुकानदारों का धंधा चौपट हो रहा है। रोजी रोटी मे तकलीफ होगी कुछ व्यवस्था करनी थी।
आपको बता दें की भाटापारा का सबसे बडा शीतला माता मंदिर भी रेलवे बाजार गेट से बलौदा बाजार की तरफ है। जहां हर वर्ष हजारों की संख्या मे मनोकाना ज्योति जलाई जाती है तथा ज्योति विर्सजन रेलवे बाजार गेट को पार कर सदर बाजार होते हुए रामसप्ताह मंदिर के तलाब मे विसर्जन किया जाता है। अब देखना यह है कि शासन विकास की गति में आम लोगों के लिए क्या व्यवस्था करती है।

Source: 
visionnewsservice.in

Related News