लॉ यूनिवर्सिटी में हाईकोर्ट के निर्देश पर ऑडिट शुरु

छत्तीसगढ़ के हिदायतुल्ल नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी में हाईकोर्ट ने ऑडिट के निर्देश दिए हैं। बताया जा रहा है कि, यूनिवर्सिटी प्रशासन के खिलाफ निर्माण कार्यों के लिए टेंडर में मनमानी आ आरोप लगाया गया था। विवि प्रशासन के खिलाफ शिकायत के बाद बिलासपुर हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस टीबी राधाकृष्णन ने ऑडिट के निर्देश दिए हैं।
हाईकोर्ट के आदेश के बाद सोमवार को तीन सदस्यीय टीम विश्वविद्यालय पहुंची और एक-एक कर सभी दस्तावेज खंगाल रही है। मंगलवार को दूसरे दिन भी यह जांच जारी रही। शिकायत की गई थी कि, विवि में निर्माण कार्यों के लिए टेंडर में मनमानी हुई है।
नए चीफ जस्टिस के आने के बाद फिर से उनसे पूरे मामले की शिकायत की गई। विवि प्रशासन शिकायत के संबंध में अपनी सफाई दे चुका है।
कुलपति डॉ. सुखपाल सिंह ने बुधवार को बताया कि, लगातार राज्य सरकार की ऑडिट टीम जांच करती है, लेकिन कोई गड़बड़ी नहीं मिली। उन्होंने बताया कि, कुछ लोग विश्वविद्यालय की छवि खराब करने के साथ अपनी मनमानी करना चाहते हैं। इस पर अंकुश लगाने की वजह से ही शिकायत कर रहे हैं। कुलपति का कहना है कि, चीफ जस्टिस के निर्देश पर होने वाली ऑडिट में सबकुछ साफ हो जाएगा।
00 क्या है हिदायतुल्ला लॉ यूनिवर्सिटी :
एचएनएलयू में बैचलर व मास्टर डिग्री की पढ़ाई होती है। नया रायपुर में खुलने वाला यह पहला शैक्षणिक संस्थान है। विश्वविद्यालय के इंफ्रास्ट्रक्चर को विकसित करने में राज्य शासन का अहम योगदान है। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह भी विश्वविद्यालय की तारीफ कर चुके हैं। पिछले साल उन्होंने यहां ऑडिटोरियम बनाने की घोषणा की थी। पिछले पांच साल में राष्ट्रीय स्तर पर विवि की रैंकिंग में सुधार हुआ है। देशभर के 18 लॉ यूनिवर्सिटी में एचएनएलयू की रैंकिंग छठवीं है। हालांकि इस जांच के बाद विवि प्रशासन पर कई सवाल खड़े हो गए हैं।

Source: 
Vision News Service

Related News