वैकल्पिक फसलों के लिए किसानों को प्रोत्साहित करें: कलेक्टर

वैकल्पिक फसलों के लिए किसानों को प्रोत्साहित करें: कलेक्टर

बुधवार को जिला कार्यालय के सभाकक्ष में कृषि, पशुधन विकास, बीज निगम, मत्स्य पालन विभाग के कार्यो की कलेक्टर डॉ. एस. भारतीदासन ने समीक्षा की। कलेक्टर ने कहा कि जैविक पद्धति से खेती करना किसानों के लिए लाभप्रद है। बाजार में जैविक उत्पादों की मांग बढ़ी है। किसान इससे अधिक लाभ कमा सकते है। जैविक खेती से भूमि की उर्वरता बनी रहती है। रासायनिक खाद का कम उपयोग पर्यावरण की सुरक्षा और शारीरिक स्वस्थ्य के लिए लाभप्रद है।
कलेक्टर ने कहा कि आगामी रबी फसल में किसानों को दलहन, तिलहन व गेहूं की फसल के लिए प्रोत्साहित करें। इस गर्मी के मौसम में धान की फसलों के लिए नहरों से पानी नहीं दी जाएगी। राज्य शासन की ओर से भू-जल स्तर को संरक्षित रखने के लिए सिंचाई पंपों के उपयोग को भी मना किया गया है। किसानों को दलहन, तिलहन फसल की तैयारी करने के लिए अभी से प्रोत्साहित किया जाए। डॉ. एस. भारतीदासन ने कहा कि जांजगीर चांपा जिला पशुुपालन व दुग्ध उत्पादन के लिए अनुकूल है। उन्होंने पशुधन विकास विभाग के उप संचालक को दूध की मांग का आंकलन करने और दूग्ध व्यवसाय की संभावनाओं को ध्यान में रखकर प्रस्ताव जिला कार्यालय में प्रस्तुत करने के निर्देश दिए। कलेक्टर ने कृषि, पशुुधन विकास, बीज निगम और मछली पालन विभाग की योजनओं के क्रियान्वयन की समीक्षा की। बैठक में संबंधित विभाग के जिला अधिकारी उपस्थित थे।

Source: 
Vision News Service

Related News