शिक्षाकर्मियों के संविलियन की प्रक्रिया लगभग संपन्न, अब कोषालय से वेतन जारी होगा

शिक्षाकर्मियों के संविलियन की प्रक्रिया लगभग संपन्न, अब कोषालय से वेतन जारी होगा

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह की घोषणा के अनुरूप राज्य में पंचायत और नगरीय निकाय संवर्ग के शिक्षकों (शिक्षा कर्मियों )के संविलियन की प्रक्रिया लगभग पूरी हो चुकी है। इसके फलस्वरूप अब उन्हें चालू माह जुलाई से कोषालय के जरिए वेतन मिलने लगेगा। उनके संविलियन के लिए विगत दो दिनों तक प्रदेश भर में विकासखण्ड स्तर पर शिविरों का आयोजन किया गया, जिनमें ई-कोष के माध्यम से वेतन भुगतान के लिए एक लाख 0592 शिक्षकों के बैंक खाता नम्बर, कर्मचारी कोड नम्बर, मोबाइल फोन नम्बर और सेवा पुस्तिका से संबंधित आवश्यक जानकारी दर्ज की गई।

स्कूल शिक्षा विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों ने आज यहां बताया कि अब सिर्फ लगभग दो हजार शिक्षक (शिक्षाकर्मियों) के लिए यह प्रक्रिया शेष रह गई है, जो अगले दो दिनों में पूरी कर ली जाएगी। इस प्रकार सभी संविलियत हो चुके शिक्षाकर्मियों का वेतन जुलाई महीने से कोषालय से आहरित होने लगेगा और उन्हें वेतन भुगतान बैंक के माध्यम होगा। उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने पिछले महीने की 14 तारीख को संभागीय मुख्यालय अम्बिकापुर (सरगुजा) में प्रदेशव्यापी विकास यात्रा के प्रथम चरण के समापन समारोह में आयोजित विशाल जनसभा में शिक्षाकर्मियों के संविलियन की घोषणा की थी। स्कूल शिक्षा विभाग ने उनकी घोषणा पर तत्परता से अमल शुरू कर दिया।

अधिकारियों ने बताया कि विगत दो दिनों तक प्रदेश भर में ब्लॉक स्तर पर आयोजित शिविरों में जिन एक लाख 592 शिक्षाकर्मियों का संविलियन किया गया और ई-कोष वेतन भुगतान के लिए प्रक्रिया पूर्ण की गई, उनमें रायपुर संभाग के अंतर्गत रायपुर जिले के तीन हजार 292, रायपुर शहर के एक हजार 002, महासमुंद चार हजार 590, धमतरी जिले के चार हजार 134, बलौदाबाजार-भाटापारा जिले के पांच हजार 927, गरियाबंद जिले के तीन हजार 040 शिक्षक शामिल है। बिलासपुर संभाग में आयोजित शिविरों में रायगढ़ जिले के चार हजार 973, कोरबा जिले के तीन हजार 306, जांजगीर-चाम्पा जिले के छह हजार 695, बिलासपुर जिले के छह हजार 891 और मुंगेली जिले के दो हजार 656 शिक्षकों का संविलियन करते हुए उनके वेतन भुगतान के लिए ई-कोष की प्रक्रिया पूरी की गई है।

अधिकारियों ने अनुसार बस्तर संभाग में आयोजित शिविरों में कांकेर जिले के तीन हजार 913, बस्तर (जगदलपुर) जिले के दो हजार 783, दंतेवाड़ा जिले के एक हजार 538, नारायणपुर जिले के 917, बीजापुर जिले के एक हजार 446, कोण्डागांव जिले के तीन हजार 274 और सुकमा जिले के एक हजार 150 शिक्षकों के लिए भी इस प्रक्रिया को पूर्ण किया गया। सरगुजा राजस्व संभाग में आयोजित शिविरों में जशपुर जिले के चार हजार 544, सरगुजा (अम्बिकापुर) जिले के चार हजार 307, बलरामपुर-रामानुजगंज जिले के चार हजार 237 और सूरजपुर जिले के चार हजार 111 शिक्षकों (शिक्षाकर्मियों) के लिए भी संविलियन और ई-कोष से वेतन भुगतान की प्रक्रिया पूरी की गई।

अधिकारियों ने कहा कि विगत दो दिनों में दुर्ग संभाग के जिलों में आयोजित शिविरों में कबीरधाम जिले तीन हजार 180, राजनांदगांव जिले के छह हजार 401, दुर्ग जिले के तीन हजार 039, बालोद जिले के तीन हजार 411 और बेमेतरा जिले के तीन हजार 020 शिक्षकों का संविलियन किया गया और उनके वेतन भुगतान के लिए ई-कोष की प्रक्रिया पूर्ण की गई।

Source: 
lalluram.com

Related News