संचालकों पर कार्रवाई की मांग को लेकर कलेक्ट्रेट पहुंचे ग्रामीण

संचालकों पर कार्रवाई की मांग को लेकर कलेक्ट्रेट पहुंचे ग्रामीण

छत्तीसगढ़ में गौशाला के नाम पर उठे विवाद अभी ठीक से शांत भी नहीं हुआ है कि अब मुंगेली स्थित गौशाला में व्याप्त विसंगतियों को लेकर ग्रामीणों ने गौशाला संचालक के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है. ग्रामीणों ने संगीन आरोप लगाया है. गौशाला संचालक ने गौशाला को अय्याशी का शाला बना दिया है.

पूरा मामला मुंगेली के पंडरभठ्ठा स्थित गौशाला का है. यहाँ व्याप्त विसंगतियों से त्रस्त ग्रामीण भारी संख्या में कलेक्ट्रेट पहुंचे हुए है. ग्रामीणों ने कलेक्टर से शिकायत करते हुए ये मांग की है कि गौशाला में व्यवस्था की सुधार की जाए. नहीं तो गौशाला को बंद किया जाए. ग्रामीणों ने अपनी शिकायत में कहा है कि गौशाला संचालक और उनके दोस्तों ने गौशाला को ऐशगाह बनाकर रख दिया है. इसके अलावा गौशाला संचालक मृत जानवरों को दफनाने की बजाय खुले स्थान पर गांव में ही छोड़ देते है. जिससे ग्रामीणों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है.

वहीं गौशाला के कई जानवरों को बाहर ही छोड़ दिया जाता है जिससे ये जानवर आवारा पशुओं की तरह गांवों में घूमते रहते है और फसलों को नुकसान पहुंचाते हैं. जिसकी शिकायत करने गौशाला संचालक के पास जाते है तो गुंडागर्दी पर उतारू हो जाते है और जो करना है कर लो कहकर धमकी दिया जाता है. ग्रामीणों ने कलेक्टर से शिकायत कर जल्द ही व्यवस्था में सुधार करने की मांग की है.

Source: 
lalluram.com

Related News