सशिसं के अलंकरण समारोह में शामिल हुए स्कूल शिक्षा मंत्री

स्कूल शिक्षा एवं आदिम जाति विकास मंत्री केदार कश्यप ने आज यहां रोहणीपूरम में सरस्वती शिक्षा संस्थान द्वारा आयोजित ‘मेधावी छात्र अलंकरण एवं आचार्य सम्मान समारोह 2016’ में शामिल हुए। समारोह में सरस्वती शिक्षा संस्थान छत्तीसगढ़ से सम्बद्ध सरस्वती शिशु मंदिर स्कूलों के मेधावी बच्चों एवं माध्यमिक शिक्षा मंडल की प्राणीण्य सूची में स्थान प्राप्त छात्र-छात्राओं को सम्मानित किया गया। संस्थान की रजत जयंती के उपलक्ष्य में 25 वर्षो से सेवाएं दे रहे आचार्यो का भी सम्मान किया गया। श्री कश्यप ने सभी मेधावी भैया-बहनों एवं आयार्चो का हार्दिक अभिनन्दन करते हुए उन्हें बधाई दी। श्री कश्यप ने कहा कि आचार्य गण अपने शिष्य के लिए वैसे ही कुम्हार की भांति होते है, जो चाक में रखे मिट्टी को उत्कृष्ट आकार देते है। ये आचार्यगण हमारे बच्चों को नैतिक एवं चारित्रिक मूल्यों की शिक्षा देते हुए एक उत्कृष्ट राष्ट्र के निर्माण हेतु प्रेरित करते है। कार्यक्रम में मुख्य रूप से स्वामी विवेकानंद तकनीकी विश्वविद्यालय के कुलपति मुकेश कुमार वर्मा, सरस्वती शिक्षा संस्थान छत्तीसगढ़ रायपुर के अध्यक्ष बद्रीनाथ केसरवानी, प्रादेशिक सचिव जुड़ावन सिंह ठाकुर, संयोजक परीक्षा प्रकोष्ठ भानु प्रकाश सोनी, जिला शिक्षा अधिकारी ए.एन. बंजारा सहित बड़ी संख्या में छत्तीसगढ़ के विभिन्न अंचलों से आए आचार्यगण, पालकगण एवं छात्र-छात्राएं सम्मिलित हुए।
हायर सेकेण्डरी बोर्ड परीक्षा 2016 में प्रणीण्य सूची में स्थान प्राप्त करने वाले भैया शुभम बख्शी, भैया रंतीदेव राठौर, बहन रोहिणी साहू एवं भैया आयुष पाण्डेय तथा हाईस्कूल बोर्ड परीक्षा 2016 की प्राणीण्य सूची में स्थान प्राप्त करने वाले भैया सौरभ राजपूत, भैया अनुराग कौशिक, भैया सोमनाथ यादव, बहन एकता बेहरा, बहन प्रेरणा नंद समेत कुल 44 मेधावी भैया-बहनों को स्कूल शिक्षा मंत्री श्री केदार कश्यप द्वारा सम्मानित किया गया।
श्री कश्यप ने सरस्वती शिक्षा संस्थान की वार्षिक शैक्षिक पत्रिका के 15वें संस्करण ‘कीर्तिमान’ पत्रिका का विमोचन भी किया। कार्यक्रम की अध्यक्षता कुलपति स्वामी विवेकानंद तकनीकी विश्वविद्यालय मुकेश कुमार वर्मा ने किया तथा कहा कि आज इस परिवर्तनशील समय में सांस्कृतिक एवं नैतिक मूल्यों को बनाए रखने की आवश्यकता है। मंच संचालन आचार्य रमेश कर ने किया।

Source: 
www.visionnewsservice.in

Related News