सांसद का घर नहीं बचा पा रही सरकार और पीट रही विकास का ढिढ़ोरा : कांग्रेस

छत्तीसगढ़ में थाने सुरक्षित नहीं है, सांसद-विधायक पनाह मांग रहे है और घरों तक को नहीं बचा पा रहे है। भारत के सीमा से अधिक सुरक्षा बलों की शहादत हो रही है। ये बातें प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता मो. असलम ने कही।
उन्होंने कहा कि, उस राज्य में भाजपा सरकार की ओर से विकास की गाथा सुना-सुना कर यात्रा निकाला जाना नागरिकों के साथ कहां तक न्याय है। छत्तीसगढ़ में बेबस, निहत्थी भोली जनता आखिर कितनी हिम्मत दिखाएगी। छत्तीसगढ़ के 14 जिलों में सरकार की अदुर्दशिता से अमन और सुकून समाप्त हो चुका है, एक तरह से समानान्तर सरकार की स्थिति है। भय और असुरक्षा का वातावरण है, वहां विकास यात्रा निकाल कर विकास की दुहाई देना बेमानी है। जो सरकार जान और माल तक की रक्षा नहीं कर पा रही है, जिनके कार्यकाल में लोगो के जीवन में स्थिरता नहीं आयी है। उस सरकार पर विश्वास रखने का क्या औचित्य है?
प्रदेश कांग्रेस के प्रवक्ता मो. असलम ने कहा कि, छत्तीसगढ़ की भाजपा सरकार को 15 वर्ष पूरे होने को है। प्रदेश की जनता ने भाजपा सरकार के लुभावनें आश्वासनो पर पूरा भरोसा किया, लेकिन वादों के मुताबिक भाजपा सरकार ने ऐसा कोई कार्य नहीं किया, जिससे उन पर आगे यकीन किया जा सके। जुमला, भ्रष्टाचार, कमीशनखोरी भाजपा सरकार का पर्याय बन चुकी है। केवल ढिढ़ोरा पीटा जा रहा है। जिस सरकार के रहते लोकतांत्रिक मूल्यों का हनन हो रहा हो, कानून व्यवस्था की स्थिति निर्मित ना हो, सुरक्षा ना हो और बुनयादी जरूरतों की आपूर्ति का संकट हो, ऐसी सरकार को उखाड़ फेंकना उचित होगा।

Source: 
visionnewsservice.in

Related News