साइकिल से हुई निकिता , प्रिया की पढ़ाई की राह आसान

साइकिल से हुई निकिता , प्रिया की पढ़ाई की राह आसान

कक्षा नवीं में पढऩे वाली निकिता भार्गव अब स्कूल समय से पहुंच जाती हैं। निकिता को स्कूल शिक्षा विभाग की ओर से सरस्वती साइकिल योजना के अंतर्गत नि:शुल्क साइकिल मिलने से पढ़ाई की राह आसान हो गई है। बिलासपुर जिले के ग्राम घानापार की रहने वाली निकिता संकरी स्थित शासकीय कन्या हाईस्कूल की छात्रा हैं। निकिता के घर से स्कूल की दूरी 8 किमी है। निकिता बताती हैं कि जब उनके पास साइकिल नही थी तब स्कूल पैदल या बहन की साइकिल से जाती थीं। इस कारण कई बार स्कूल देरी से भी पहुंचती थीं। देर से पहुंचने पर उन्हें सजा मिलती थी लेकिन अब ऐसा नहीं है। जब से साइकिल मिली है तब से निकिता समय पर स्कूल पहुंच जाती हैं। कुछ ऐसी ही कहानी घानापार निवासी प्रिया सूर्यवंशी की है । प्रिया के पिता किसान हैं। प्रिया ने बताया कि साइकिल खरीदना उनके लिए संभव नहीं था। लेकिन सरस्वती साइकिल योजना से गांव से स्कूल का 8 किमी का सफर काफी आसान हो गया है। प्रिया का सपना उच्च शिक्षा हासिल कर पिता का नाम रोशन करना है और किसी भी कीमत पर वे आगे की पढ़ाई जारी रखना चाहती थीं लेकिन जब 8वीं कक्षा उत्तीर्ण की तब दूरी के कारण उन्हें नहीं लगता था कि आगे की पढ़ाई जारी रख पाएंगी। लेकिन अब प्रिया आगे की पढ़ाई कर रही हैं और काफी खुश हैं।
छत्तीसगढ़ सरकार ने सरस्वती साइकिल योजना की शुरुआत 2004-05 में की थी। इस योजना का उद्देश्य है कि कक्षा 8वीं के बाद भी छात्राएं दूरी के कारण पढ़ाई न छोड़ें। निशुल्क साइकिल मिलने से छात्राओ का उच्च शिक्षा का प्रतिशत बढ़ा है।

Source: 
Vision News Service

Related News