सीबीआई की विश्वसनीयता संकट में : मुख्यमंत्री भूपेश

सीबीआई की विश्वसनीयता संकट में : मुख्यमंत्री भूपेश

छत्तीसगढ़ में सीबीआई की बगैर अनुमति छापा मारने के अधिकार पर सरकार ने रोक लगा दी है। इस पर प्रदेश में सूबे के मुखिया भूपेश बघेल ने पत्रकार सम्मेलन में कहा कि देश में सीबीआई की विश्वसनीयता संकट में है। इसे देखते हुए प्रदेश में इसकी बगैर अनुमति कार्रवाई पर रोक लगाई गई है। राज्य में सीबीआई को सीधी एंट्री कुछ अफसरशाहों ने दी थी, जिस पर केन्द्र सरकार को विधि सम्मत पत्र लिखकर कार्रवाई की मांग की गई थी। इसे केन्द्रीय गृह मंत्रालय ने भी स्वीकार किया है।
उन्होंने कहा कि पूर्व की भाजपा सरकार ने प्रदेश में कई घोटाले किए हैं। इनके खुलासे गुरुवार को विधानसभा के पटल पर पेश किए गए सीएजी की रिपोर्ट में स्पष्ट हैं। एक ही कम्प्यूटर पर एक ही ई-मेल एड्रेस से कई निविदाओं को भरा गया है और उन्हीं कम्प्यूटर्स की मदद से निविदाओं को खोला भी गया है। यह अपने आप में ही स्पष्ट सबूत है।
भूपेश ने कहा कि प्रदेश की पूर्व की भाजपा सरकार छत्तीसगढिय़ों का अस्तित्व मिटाने पर तूल गई थी। प्रदेश के सुप्रसिद्ध राजिम पुन्नी मेला का नाम राजिम कुंभ कर दिया था, जो प्रदेश की एकता और अखंडता का प्रतीक है। कुंभ तो पूरे भारत वर्ष में चार होते हैं। राजिम कुंभ का नामकरण भी भ्रष्टाचार का एक माध्यम था। रायपुर का स्काई वॉक और स्काई योजना भी छत्तीसगढिय़ों का अस्तित्व मिटाने का एक प्रयास है।
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि मैं रायपुरवासियों से सुझाव मांगता हूं कि रायपुर में निर्माणाधीन स्काईवॉक और लाखों की तादाद में पड़े स्काई योजना के मोबाइल फोन का क्या किया जाए?

Source: 
visionnewsservice.in

Related News